Wednesday, November 14, 2018

अभय चौटाला ने अनुशासनहीनता पर टिप्पणियों पर दी प्रतिक्रिया 


चंडीगढ़, 14 नवम्बर: नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने चंडीगढ़ में हुई प्रैसवार्ता के दौरान कहा कि एसवाईएल निर्माण, कर्मचारियों के प्रति सरकार के रवैये, किसानों की अवशेष जलाने की समस्या और व्यापारियों पर जीएसटी और नोटबंदी के बुरे प्रभाव जैसे मुद्दों को लेकर इनेलो प्रदेशभर में 1 दिसंबर से ‘रथ यात्रा’ निकालेगी। उनकी इस रथ यात्रा द्वारा जनता में जागरुकता का आंदोलन आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनावों तक जारी रहेगा। अभय चौटाला ने कहा कि पिछले चार सालों से वह नेता विपक्ष के तौर पर पार्टी विधायकों और संगठन कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर लोगों के हितों की लड़ाई लड़ रहे हैं। वहीं कुछ लोगों द्वारा की गई अनर्गल बयानबाजी पर कहा कि उन्होंने विधानसभा और उससे बाहर भी भाजपा और कांग्रेस की पोल खोलने का काम किया है साथ ही सदन के हर विधायक को अपनी बात रखने का अवसर मिले इसके लिए भी प्रयास कर उनको बोलने का मौका दिलवाया।
पहली बार नेता विपक्ष ने 7 अक्टूबर की गोहाना रैली से पार्टी में चल रहे अनुशासनहीनता के मुद्दे पर टिप्पणी की। उन्होंने अजय चौटाला द्वारा की गई टिप्पणियों का पर भी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उन्होंने हमेशा अजय चौटाला को राजनैतिक ताकत देने का काम किया है। उनकी भाषा और टिप्पणियों से उनको पीड़ा हुई है। अभय चौटाला ने यह भी कहा कि वह अजय चौटाला से दो साल ही छोटे हैं और अजय चौटाला ने अपने राजनैतिक जीवन के दस साल राजस्थान की राजनीति को दिए वहीं उनकी राजनैतिक सक्रियता का हर दिन प्रदेश की राजनीति को समर्पित रहा है चाहे वह ग्राम पंचायत का चुनाव हो या फिर विधानसभा का।
इनेलो वरिष्ठ नेता नेता ने यह भी कहा कि उन्होंने हमेशा चौधरी ओम प्रकाश चौटाला द्वारा दी गई जिम्मेदारियों का ही निर्वाह किया है और उन्होंने कभी पार्टी लाइन से बाहर जाकर कोई कार्य नहीं किया। उन्होंने याद दिलाया कि जब इनेलो सुप्रीमो और अजय सिंह को पड्यंत्र के तहत जेल करवाई गई तो उस समय स्वयं इनेलो सुप्रीमो ने संगठन को बिखरने से बचाने और मजबूत करने का जिम्मा उन्हें सौंपा था। जब कांग्रेस और भाजपा ने समझ लिया था कि इनेलो खत्म हो गई है और देश में मोदी लहर के दौरान, उन्होंने उस जिम्मेवारी को निभाते हुए पार्टी को प्रदेश के मुख्य विपक्षी दल की भूमिका तक पहुंचाया और कार्यकर्ताओं की मेहनत के बल पर दो लोकसभा सीट भी जीती। 

No comments:

Post a Comment