Monday, November 12, 2018

कार्यकर्ता को कांग्रेसी कहने वाले खुद हुड्डा व खट्टर के साथ खाते है खाना- दिग्विजय चौटाला


भिवानी: डा अजय सिंह चौटाला ने इनेलो संगठन के लिए 24 घंटे काम किया है। जब पार्टी संगठन 2004 के चुनाव के बाद संकट की घड़ी में था तब इनेलो राष्ट्रीय महासचिव ने 664 किलोमीटर पदयात्रा करके हरियाणा की राजनीति में बदलाव लाने का काम किया था। यही नही इससे पहले डा अजय सिंह चौटाला 1977 से इनेलो संस्थापक जननायक चौ देवीलाल के साथ प्रदेश के हर कोने में घुमकर पार्टी संगठन को मजबूत बनाने का बीड़ा उठाया। उन्होंने दिवार बनकर चौ ओमप्रकाश चौटाला को हरियाणा प्रदेश की बागडोर संभालने में अहम भुमिका निभाई थी। आज जो लोग कार्यकर्ताओं को कांग्रेसी कहकर अपना व्यक्तिग स्वार्थ निकालने में लगे हुए है, वही लोग आज भुपेन्द्र हुड्डा और मनोहरलाल खट्टर के साथ एक थाली में खाना खाते है। जहां दुष्यंत चौटाला सड़क से लेकर संसद तक किसान, दलित, कमेरें, युवा, महिलाओं पर अत्याचार के साथ-साथ कर्मचारियों की आवाज को बुंलद करते आ रहे है। वही ये लोग पार्टी संगठन को कमजोर करने के लिए विधानसभा में जनहितैषी मुद्दो को उठाने में भी हिचकिचाते है। यह आरोप इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय चौटाला ने देर रात हल्का तोशाम व बाढड़ा में जनसभाओं को संबोधित करते हुए कहे। उन्होंने कहा कि दुष्यंत और वे स्वंय जननायक चौ देवीलाल की नीतियों को आग बढाने में विश्वास रखते है। वही उन्होंने इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला से संर्घष करने का मादा सीखा है। डा अजय सिंह चौटाला ने उन्हें जनता के दिलों में जगह बनाना सिखाया है। वही प्रदेश की जनता से उन्होंने हार को जीत में बदलना सीखा है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2008 में डा अजय सिंह चौटाला की 664 पदयात्रा को कोन भुला सकता है, जिसमें एक-एक कार्यकर्ता ने पार्टी संगठन को मजबूती देने के लिए दिन रात एक कर दी थी। दिग्विजय ने कहा कि आज युवा तबका हर क्षेत्र में अपने आप को मजबूत बनाने के लिए अग्रसर है। दुष्यंत चौटाला जैसे युवा नेता की आज प्रदेश को सख्त जरुरत है इसलिए अब ना झुकेंगे ना रुकेंगे। उन्होंने कहा कि अब कार्यकर्ताओं ने चण्डीगढ़ पहुंचने का मन बना लिया है। इसलिए 17 नंवबर को जींद में प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में बड़ा फैसला लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि 17 नंवबर को जींद में असली इनेलो कार्यकारिणी मौजूद होगी। 
इनसो अध्यक्ष ने एक पुर्व बड़बोले आईएस को लपेटे में लेते हुए कहा कि आज कुछ लोग अपने निजी स्वार्थ के लिए किसी भी हद तक गिरने को तैयार है। ये लोग डा. अजय सिंह चौटाला के उपर सवालिया निशान लगाकर अपनी ओछी मानसिकता का परिचय दे रहे है। ये वही लोग जिनके खुद के बुथ से तीन-तीन वोट पार्टी के निकलते है, लेकिन बेशर्मी की हद तब हो जाती है, जब ये लोग आजकल अपने आप को पार्टी का सर्वेसर्वा बताते नजर आते है। उन्होंने कहा ऐसे लोगों की दुकाने ज्यादा दिन नही चलती झूठ की बुनियाद पर टिकी इन लोगों की दुकानों को जनता जल्द ही बंद कर देगी। 
प्रदेश के इस युवा तेज तर्रार नेता के भिवानी दादरी दौरे के दौरान सैकड़ो लोगों ने भाजपा व कांग्रेस को छोड़कर दुष्यंत के समर्थन में अपनी आस्था व्यक्त की। पूर्व सरपंच चंदगीराम चांदावास ने सैकड़ो समर्थकों सहित दुष्यंत का साथ देने का मन बनाया। वही लुहारी जाटू के संदीप बाबा, नवीन पण्डित, विजय जाटू लोहारी, अमरदास, अशोक, संजय, धर्मबीर, दिनेश, जयभगवान, मोनी, बलबीर, जितेन्द्र, बिजेन्द्र, सतबीर, विनोद, प्रहलाद ,राजपाल, विजय , प्रतीक, राजरुप, प्रवीन ओर प्रशांत से कांग्रेस छोड़कर दुष्यंत का साथ देने का संकल्प लिया। वही हल्का तोशाम में कांग्रेस नेता अशोक नांगल, उपेन्द्र व सुरजीत बागनवाला ने कांग्रेस छोड़कर दुष्यंत में अपनी आस्था व्यक्त की। इस अवसर पर उनके साथ नरेश द्वारका, राजेन्द्र गांधी, जगदीश धनाना, रविन्द्र पटौदी, डा विजय सांगवान मंदौला, रोशन लाल ढाणी माहू, डा दिनेश सनसनवाल, डीएसपी होशियार सिंह, चेयरमैन प्रेम धनाना, वजीर मान मनमोहन भुरटाना, प्रवीन काद्यान, राजबीर तालू, राजेश झोझू, अनिल मोटू, मित्रपाल चैयरमैन, ओमी बापोड़ा, रब्बू पंवार, सत्यपाल आर्य, लक्ष्मी बलौदा, ओमधारा श्योराण, सुलोचना पोटलिया, शंकुतला श्याणी, वीना सारसर, भगवती जाटू लोहारी, गुड्डी लाग्यान, माया हितमपूरा, रामफल फौजी, जितेन्द्र शर्मा धारेडू, प्रदीप खरकियां, पपल ठाकूर, प्रवक्ता राजू मेहरा, रामसिंह वैघ, मेवा फौजी, राजेश भारद्वाज, रिषीपाल फौगाट, सुनील मनसरवास, सुबेदार जंगपाल, सुरेन्द्र राठी, सज्जन बलाली, कृष्ण बजीना, हरीष तोशाम, सोमबीर तोशाम, डा जयबीर बुरा, सीताराम सिंगल, जैना शर्मा, सुमीत श्योराण, दिपक सिवाड़ा, दिनेश नंबरदार, मंदीप सुई, सेठी धनाना, सचिन जताई, प्रमोद जोगी, मनोज खानक, विक्रम धनाना, सीना पायल, डिलू राठी, दिलबाग गोलागढ़, सतबीर झपोला, विरेन्द्र बापोड़ा, लाला बापोड़ा, मंजीत जुई, नानक सरपंच, दलसिंह पंघाल, संदीप थिलोड़, उमेद सरपंच, बीट्टू शर्मा, अशोक सिहाग, सन्नी बतरा, रवि आर्य तोशाम, अजीत तिगड़ाना, राजेन्द्र कसवा, प्रदीप तालू, सतबीर घुसकानी, कपूरा घुसकानी, मनदीप घनघस, आजाद गिल, तेजपाल नंबरदार, सुकल राजपूत, सुबेदार अनिल, मुकेश पण्डित, सतपाल राजपूत, तेजपाल राजपूत, सोनू राघव, सुबोत राजपूत, अनिल धनाना, अनिल फौजी, बलवान मुण्डाल, रवि रतेरा, यशवीर घनघस, रविन्द्र ढिलों, बंटी मानहेरु, ललित पंघाल, दिलबाग चैयरमैन पुर, नफे सरपंच, अमित बापोड़ा, जितेन्द्र बापोड़ा, सुखविन्द्र पपोसा, विकास चहल, सुरेन्द्र गोदारा, प्रदीप गोयल, शंकर आहूजा, आशू वाल्मीक, लीला मुंढाल, धमेन्द्र मुंढाल, दिलबाग चैयरमेन, ईश्वर पुनिया, रामकला सिहाग, मेहरचंद सांगवान, जयपाल पे्रमनगर, मांगेराम तोंदवाल, परमजीत छोकर, मास्टर जोगेन्द्र, नरेन्द्र कांटीवाल, रामेश्वर चांग, जसवंत चांग, महाबीर मलिक, बलवंत औरगनगर, सुभाष गर्ग, जसू कुंगड़ा, मास्टर हरिपाल लाग्यान, मुकेश बीडीसी, सुनहरी देवी, जगत संागा, प्रदीप मिताथल, कृष्ण मिताथल, बलबीर गे्रवाल, भोमसिंह, माईराम खटीक, इकबाल सिंह, प्रो. सन्नी, रोहित मोगली, अजय दलाल, दिपक रेवाड़ी खेड़ा, सुशील बामल, शिवकुमार परमार, रुपेश धानक, सुभाष धानक, कुलदीप परमार, रमन नौरंगाबाद, गांधी नौरंगाबाद, पप्पू नंबरदार, पप्पू नंबरदार, नरेन्द्र मिताथल, राममेहर मिताथल, अशोक धानक, अशोक बाली शर्मा, मैनपाल नंबरदार, सतप्रकाश नंबरदार, प्रवीन मण्डाना, दिलबाग तालू, रमेश तालू, मंदीप तालू, हरकेश बडेसरा, महेन्द्र नंबरदार, सुरेश ठेकेदार, कमलजीत यादव, ललित शर्मा, दलबीर जताई, मुन्ना रापडिय़ा, विक्रम बडेसरा, रोहताश दहिया, गुलाब सैनी, सत्यवान धनाना, मदन जुसवाल, मांगे सिवाड़ा, संदीप शर्मा, बलराज चौहान, दिपक राठौर, बलवान जमालपूर, मा. सुरेन्द्र खानक, रवि रतेरा, सुरज मलिक, धीरा शर्मा मुंढाल सहित अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे। 

No comments:

Post a Comment