Wednesday, November 14, 2018

अजय चौटाला पर हुई अनुशासनात्मक कार्यवाही 


चंडीगढ़, 14 नवम्बर: इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने चंडीगढ़ में हुई प्रैसवार्ता में अजय सिंह चौटाला को राज्य इकाई के प्रधान महासचिव के पद से मुक्त करने के साथ-साथ उन्हें पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी निष्कासित कर दिया है। इनेलो प्रदेशाध्यक्ष ने इनेलो सुप्रीमो चौधरी ओमप्रकाश चौटाला द्वारा लिखित अजय चौटाला का निष्कासन पत्र पढ़ते हुए यह औपचारिक घोषणा की। प्रैसवार्ता में नेता विपक्ष अभय सिंह चौटाला भी मौजूद थे। प्रदेशाध्यक्ष ने इनेलो सुप्रीमो के पत्र के हवाले से कहा कि अजय चौटाला पार्टी विरोधी गतिविधियों में सलिंप्त पाए गए हैं उन्होंने संगठन के समानांतर संगठन चलाने की कोशिश की है जिस पर संज्ञान लेते हुए इनेलो राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी ओम प्रकाश चौटाला ने उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए उन्हें पार्टी की राज्य इकाई के प्रधान महासचिव पद से हटा दिया है और उनको इनेलो पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी निष्कासित कर दिया है। उन्होंने एक बार फिर बता दिया है कि उनके लिए पार्टी सर्वप्रिय है और उससे बड़ा न कोई व्यक्ति है और न कोई परिवार का सदस्य है। इसके अतिरिक्त इनेलो प्रदेशाध्यक्ष ने पार्टी की ओर से सार्वजनिक सूचना जारी करते हुए कहा कि 17 नवंबर, 2018 को सिंह अजय चौटाला द्वारा जो तथाकथित राज्य कार्यकारिणी की बैठक बुलाई गई है, वह इंडियन नैशनल लोकदल के संविधान के अनुच्छेद 9 की धारा 5 की उल्लंघना करती है। संविधान के अनुच्छेद की धारा 5 के तहत कोई भी आम या विशेष राज्यकार्यकारिणी की बैठक को बिना राष्ट्रीय अध्यक्ष की पूर्व अनुमति के नहीं बुलाया जा सकता है। इसकी उल्लंघना करने वाले के विरुद्ध राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुशासनात्मक कार्यवाही कर सकते हैं।
अभय चौटाला ने अनुशासनहीनता पर टिप्पणियों पर दी प्रतिक्रिया 


चंडीगढ़, 14 नवम्बर: नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने चंडीगढ़ में हुई प्रैसवार्ता के दौरान कहा कि एसवाईएल निर्माण, कर्मचारियों के प्रति सरकार के रवैये, किसानों की अवशेष जलाने की समस्या और व्यापारियों पर जीएसटी और नोटबंदी के बुरे प्रभाव जैसे मुद्दों को लेकर इनेलो प्रदेशभर में 1 दिसंबर से ‘रथ यात्रा’ निकालेगी। उनकी इस रथ यात्रा द्वारा जनता में जागरुकता का आंदोलन आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनावों तक जारी रहेगा। अभय चौटाला ने कहा कि पिछले चार सालों से वह नेता विपक्ष के तौर पर पार्टी विधायकों और संगठन कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर लोगों के हितों की लड़ाई लड़ रहे हैं। वहीं कुछ लोगों द्वारा की गई अनर्गल बयानबाजी पर कहा कि उन्होंने विधानसभा और उससे बाहर भी भाजपा और कांग्रेस की पोल खोलने का काम किया है साथ ही सदन के हर विधायक को अपनी बात रखने का अवसर मिले इसके लिए भी प्रयास कर उनको बोलने का मौका दिलवाया।
पहली बार नेता विपक्ष ने 7 अक्टूबर की गोहाना रैली से पार्टी में चल रहे अनुशासनहीनता के मुद्दे पर टिप्पणी की। उन्होंने अजय चौटाला द्वारा की गई टिप्पणियों का पर भी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उन्होंने हमेशा अजय चौटाला को राजनैतिक ताकत देने का काम किया है। उनकी भाषा और टिप्पणियों से उनको पीड़ा हुई है। अभय चौटाला ने यह भी कहा कि वह अजय चौटाला से दो साल ही छोटे हैं और अजय चौटाला ने अपने राजनैतिक जीवन के दस साल राजस्थान की राजनीति को दिए वहीं उनकी राजनैतिक सक्रियता का हर दिन प्रदेश की राजनीति को समर्पित रहा है चाहे वह ग्राम पंचायत का चुनाव हो या फिर विधानसभा का।
इनेलो वरिष्ठ नेता नेता ने यह भी कहा कि उन्होंने हमेशा चौधरी ओम प्रकाश चौटाला द्वारा दी गई जिम्मेदारियों का ही निर्वाह किया है और उन्होंने कभी पार्टी लाइन से बाहर जाकर कोई कार्य नहीं किया। उन्होंने याद दिलाया कि जब इनेलो सुप्रीमो और अजय सिंह को पड्यंत्र के तहत जेल करवाई गई तो उस समय स्वयं इनेलो सुप्रीमो ने संगठन को बिखरने से बचाने और मजबूत करने का जिम्मा उन्हें सौंपा था। जब कांग्रेस और भाजपा ने समझ लिया था कि इनेलो खत्म हो गई है और देश में मोदी लहर के दौरान, उन्होंने उस जिम्मेवारी को निभाते हुए पार्टी को प्रदेश के मुख्य विपक्षी दल की भूमिका तक पहुंचाया और कार्यकर्ताओं की मेहनत के बल पर दो लोकसभा सीट भी जीती। 
अजय चौटाला के खिलाफ षडयंत्र और फर्जी हस्ताक्षरों को लेकर कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन


भिवानी: इनेलो के राष्ट्रीय महासचिव पूर्व सांसद डा. अजय सिंह चौटाला और प्रदेश के जनलोकप्रिय सांसद दुष्यंत चौटाला व दिग्विजय चौटाला के निष्कासन को लेकर आज भिवानी में पार्टी कार्यकर्ताओं ने भारी विरोध जताया । पार्टी कार्यकर्ताओं ने स्थानीय देवीलाल सदन में एकत्रित होकर डा. अजय सिंह चौटाला, दुष्यंत चौटाला व दिग्विजय चौटाला के फोटो उठाकर समर्थन दिया और कहा कि जन लोकप्रिय नेता के परिवार के साथ वो लोग षडयंत्र रच रहे हैं जिन्होंने हमेशा पार्टी की पीठ में छुर्रा घोपने का काम किया है। कार्यकर्ताओं ने कहा कि जहां डा. अजय सिंह चौटाला को निष्कासन करने का आदेश सही नहीं बनता वहीं षडयंत्रकारी झूठे हस्ताक्षर कर दुष्यंत व दिग्विजय के निष्कासन का पत्र लिए फिरते हैं। कार्यकर्ताओं ने डा. अजय सिंह चौटाला जिंदाबाद, दुष्यंत चौटाला आगे बढ़ो और दिग्विजय सिंह चौटाला जिंदाबाद के नारे लगाते हुए  पूर्ण रूप से समर्थन दिया। वहीं स्थानीय कार्यकर्ताओं ने कहा कि उन्हें डा. अजय सिंह चौटाला के द्वारा दिए गए आमंत्रण पत्र मिल चुके हैं। 17 को जींद में भारी संख्या में पदाधिकारी पहुंचेंगे और अजय सिंह चौटाला को समर्थन देंगे। कार्यकर्ताओं ने कहा कि 17 नवम्बर को जींद में असली लोकदली शामिल होंगे। वहीं षडयंत्र रचने वालों को पार्टी से बाहर कियाजाएगा। कार्यकर्ताओं ने अजय सिंह,दुष्यंत, दिग्विजय के निष्कासन को असंवेधानिक बताया। प्रदर्शन करने वालों में मुख्य रूप से नरेश द्वारका, हलका अध्यक्ष जगदीश धनाना, व्यापार प्रकोष्ठ जिला अध्यक्ष प्रदीप गोयल, चेयरमैन प्रेम धनाना, डीएसपी होश्यार सिंह, जिला प्रवक्ता राजू मेहरा, युवा शहरी अध्यक्ष आसू वाल्मीकि, बीसी अध्यक्ष बृजलाल जोगी, बीसी शहरी अध्यक्ष मदन जूसवाला, युवा ग्रामीण जिला अध्यक्ष रमन राजपूत, इनेसो चेयरमैन मंदीप सुई, एससी सैल जिला अध्यक्ष मनमोहन भुरटाना, प्रदेश महासचिव विरेंद्र वाल्मीकि, महिला महासचिव वीना सारसर, लीगल सैल कोर्डिनेटर मेहर चंद सांगवान, पूर्व युवा हलका अध्यक्ष देवेंद्र नकीपुर, शहरी अध्यक्ष जितेंद्र शर्मा, प्रदीप खरकिया, जितेंद्र शर्मा रिवाड़ीखेड़ा, हलका प्रवक्ता संजय कारखल, सैनिक प्रकोष्ठ सतपाल फौजी, सेक्रेटरी अशोक सिहाग, रमेश भौरिया, माईराम खटीक, अजमेर कितलाना, इनसो सचिव मनीष छिल्लर, हंसराज सांई, बलजीत गौरीपुर, दीवान टाक,  शकुंतला गौरीपुर, आनंद प्रकाश, राजबीर सैन, बल्लू बामला, प्रदीप मित्ताथल, जितेंद्र तंवर, ईकबाल सहरावत, अशोक बाली शर्मा, सुशील ढिल्लो, सुशील बामल, मोहित इनसो, संदीप बलौदा, पवन फौजी तिगड़ाना, माईराम खटीक, शंकर आहूजा, सूरज मलिक, योगेश तालू, बलबीर सैन, राजबीर भाटी, मनोज खानक, सुभाष धानक, भौम सिंह, धीरा शर्मा मुण्ढाल, रूपेश धानक, ब्रह्मा बापोड़ा सहित अनेक लोगों ने फैसले का विरोध किया। 

Tuesday, November 13, 2018

17 नवम्बर की बैठक को असंवैधानिक बताने वालों का कार्यकर्ताओं ने किया विरोध


भिवानी: 17 नवम्बर को जींद में इनेलो प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक को लेकर कुछ लोग व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए अनाप शनाप ब्याजी कर रहे हैं। ऐसे लोग इनेलो के बारे में पता ही नहीं है। ये लोग केवल मात्र मोकापरस्त लोग होते हैं जो समय आने पर पलटी मारने में देर नहीं लगाते हैं। यह आरोप दिग्विजय चौटाला के प्रवक्ता राजू मेहरा ने प्रवीण अत्रे पर लगाए वहीं पूर्व चेयरमैन प्रेम धनाना, वरिष्ठ इनेलो नेता डीएसपी होश्यार सिंह, प्रदीप खरकिया, शहरी अध्यक्ष जितेंद्र शर्मा धारेडू ने आज संयुक्त रूप से कहा कि डा. अजय सिंह चौटाला जैसी लोकप्रियता लेना हर किसी के बस की बात नहीं है। जन लोकप्रियता के लिए लोगों के दिलों में जगह बनानी पड़ती है। 
इनेलो नेताओं ने आज देवीलाल सदन में एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया। जिसमें मुख्य एजेंडा प्रदेश प्रवक्ता कहे जाने वाले प्रवीण अत्रे द्वारा 17 नवम्बर को जींद में होने वाली बैठक को असंवैधानिक करार देने के विरोध में रहा। चेयरमैन प्रेम धनाना व जितेंद्र शर्मा ने कहा कि ऐसे लोगोंं केा पार्टी की नीतियों के बारे में नहीं नहीं पता ये लोग चंद रोज पहले पार्टी में आए थे और अब केवल मात्र अपने व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए अनाप शनाप ब्यानबाजी कर रहे हैं। डीएसपी होश्यार सिंह व प्रदीप खरकिया ने कहा कि पिछले दिनों अपने आपको पार्टी का राष्ट्रीय महासचिव कहने वाले आरएस चौधरी को तो यह भी नहीं पता कि उनके वार्ड से पार्टी को मात्र 3 वोट मिले थे।  इनेलो नेताओं ने कहा कि जो लोग संविधानिक बैठक की बात करते हैं उन्हें शायद इस बात पता नहीं है कि किसी भी पार्टी या संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष के बाद पार्टी के प्रधान महासचिव बैठक को बुला सकते हैं। 17 नवम्बर को जींद में होने वाली बैठक संविधानिक रूप से बिल्कुल सही है। वहीं इनेलो नेताओं ने एक महत्वपूर्ण प्रस्ताव पारित करते हुए कहा कि आज कार्यकर्ता डा. अजय सिंह चौटाला के साथ हैं और इसके लिए अब ग्रामीण स्तर पर इनेलो के विधायकों, प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्यों से लेकर वरिष्ठ नेताओं को पार्टी कार्यकर्ता दुष्यंत का साथ देने के  लिए कहेंगे क्योंकि कार्यकर्ता के दम पर ही ये लोग विधायक बने हैं और कार्यकर्ताओं के दम पर ही ये लोग प्रदेश कार्यकारिणी से लेकर जिला प्रधान के पदों तक पहुंचे हैं। बैठक में सभी इनेलो नेताओं ने एक सुर में दुष्यंत चौटाला का समर्थन किया और डा. अजय सिंह चौटाला के द्वारा जींद मेें आयोजित बैठक में ज्यादा से ज्यादा संख्या में पहुंचने की बात कही। इस अवसर पर बिटटू शर्मा, कर्मबीर धनाना, अशोक सिहाग, प्रदीप गोयल, विरेंद्र बापोड़ा, बबलू कोंट, संदीप वर्मा, अनिल गुजरानी, धर्मपाल मित्ताथल, भौम सिंह, सतबीर फौजी, ब्रह बापोड़ा, ओमी बपोड़ा, जितेंद्र बापोड़ा, रामफल जाखड़ मैनेजर, अनिल मोटू, सूरज मलिक सहित अनेक लोग उपस्थित थे। 

Monday, November 12, 2018

कार्यकर्ता को कांग्रेसी कहने वाले खुद हुड्डा व खट्टर के साथ खाते है खाना- दिग्विजय चौटाला


भिवानी: डा अजय सिंह चौटाला ने इनेलो संगठन के लिए 24 घंटे काम किया है। जब पार्टी संगठन 2004 के चुनाव के बाद संकट की घड़ी में था तब इनेलो राष्ट्रीय महासचिव ने 664 किलोमीटर पदयात्रा करके हरियाणा की राजनीति में बदलाव लाने का काम किया था। यही नही इससे पहले डा अजय सिंह चौटाला 1977 से इनेलो संस्थापक जननायक चौ देवीलाल के साथ प्रदेश के हर कोने में घुमकर पार्टी संगठन को मजबूत बनाने का बीड़ा उठाया। उन्होंने दिवार बनकर चौ ओमप्रकाश चौटाला को हरियाणा प्रदेश की बागडोर संभालने में अहम भुमिका निभाई थी। आज जो लोग कार्यकर्ताओं को कांग्रेसी कहकर अपना व्यक्तिग स्वार्थ निकालने में लगे हुए है, वही लोग आज भुपेन्द्र हुड्डा और मनोहरलाल खट्टर के साथ एक थाली में खाना खाते है। जहां दुष्यंत चौटाला सड़क से लेकर संसद तक किसान, दलित, कमेरें, युवा, महिलाओं पर अत्याचार के साथ-साथ कर्मचारियों की आवाज को बुंलद करते आ रहे है। वही ये लोग पार्टी संगठन को कमजोर करने के लिए विधानसभा में जनहितैषी मुद्दो को उठाने में भी हिचकिचाते है। यह आरोप इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय चौटाला ने देर रात हल्का तोशाम व बाढड़ा में जनसभाओं को संबोधित करते हुए कहे। उन्होंने कहा कि दुष्यंत और वे स्वंय जननायक चौ देवीलाल की नीतियों को आग बढाने में विश्वास रखते है। वही उन्होंने इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला से संर्घष करने का मादा सीखा है। डा अजय सिंह चौटाला ने उन्हें जनता के दिलों में जगह बनाना सिखाया है। वही प्रदेश की जनता से उन्होंने हार को जीत में बदलना सीखा है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2008 में डा अजय सिंह चौटाला की 664 पदयात्रा को कोन भुला सकता है, जिसमें एक-एक कार्यकर्ता ने पार्टी संगठन को मजबूती देने के लिए दिन रात एक कर दी थी। दिग्विजय ने कहा कि आज युवा तबका हर क्षेत्र में अपने आप को मजबूत बनाने के लिए अग्रसर है। दुष्यंत चौटाला जैसे युवा नेता की आज प्रदेश को सख्त जरुरत है इसलिए अब ना झुकेंगे ना रुकेंगे। उन्होंने कहा कि अब कार्यकर्ताओं ने चण्डीगढ़ पहुंचने का मन बना लिया है। इसलिए 17 नंवबर को जींद में प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में बड़ा फैसला लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि 17 नंवबर को जींद में असली इनेलो कार्यकारिणी मौजूद होगी। 
इनसो अध्यक्ष ने एक पुर्व बड़बोले आईएस को लपेटे में लेते हुए कहा कि आज कुछ लोग अपने निजी स्वार्थ के लिए किसी भी हद तक गिरने को तैयार है। ये लोग डा. अजय सिंह चौटाला के उपर सवालिया निशान लगाकर अपनी ओछी मानसिकता का परिचय दे रहे है। ये वही लोग जिनके खुद के बुथ से तीन-तीन वोट पार्टी के निकलते है, लेकिन बेशर्मी की हद तब हो जाती है, जब ये लोग आजकल अपने आप को पार्टी का सर्वेसर्वा बताते नजर आते है। उन्होंने कहा ऐसे लोगों की दुकाने ज्यादा दिन नही चलती झूठ की बुनियाद पर टिकी इन लोगों की दुकानों को जनता जल्द ही बंद कर देगी। 
प्रदेश के इस युवा तेज तर्रार नेता के भिवानी दादरी दौरे के दौरान सैकड़ो लोगों ने भाजपा व कांग्रेस को छोड़कर दुष्यंत के समर्थन में अपनी आस्था व्यक्त की। पूर्व सरपंच चंदगीराम चांदावास ने सैकड़ो समर्थकों सहित दुष्यंत का साथ देने का मन बनाया। वही लुहारी जाटू के संदीप बाबा, नवीन पण्डित, विजय जाटू लोहारी, अमरदास, अशोक, संजय, धर्मबीर, दिनेश, जयभगवान, मोनी, बलबीर, जितेन्द्र, बिजेन्द्र, सतबीर, विनोद, प्रहलाद ,राजपाल, विजय , प्रतीक, राजरुप, प्रवीन ओर प्रशांत से कांग्रेस छोड़कर दुष्यंत का साथ देने का संकल्प लिया। वही हल्का तोशाम में कांग्रेस नेता अशोक नांगल, उपेन्द्र व सुरजीत बागनवाला ने कांग्रेस छोड़कर दुष्यंत में अपनी आस्था व्यक्त की। इस अवसर पर उनके साथ नरेश द्वारका, राजेन्द्र गांधी, जगदीश धनाना, रविन्द्र पटौदी, डा विजय सांगवान मंदौला, रोशन लाल ढाणी माहू, डा दिनेश सनसनवाल, डीएसपी होशियार सिंह, चेयरमैन प्रेम धनाना, वजीर मान मनमोहन भुरटाना, प्रवीन काद्यान, राजबीर तालू, राजेश झोझू, अनिल मोटू, मित्रपाल चैयरमैन, ओमी बापोड़ा, रब्बू पंवार, सत्यपाल आर्य, लक्ष्मी बलौदा, ओमधारा श्योराण, सुलोचना पोटलिया, शंकुतला श्याणी, वीना सारसर, भगवती जाटू लोहारी, गुड्डी लाग्यान, माया हितमपूरा, रामफल फौजी, जितेन्द्र शर्मा धारेडू, प्रदीप खरकियां, पपल ठाकूर, प्रवक्ता राजू मेहरा, रामसिंह वैघ, मेवा फौजी, राजेश भारद्वाज, रिषीपाल फौगाट, सुनील मनसरवास, सुबेदार जंगपाल, सुरेन्द्र राठी, सज्जन बलाली, कृष्ण बजीना, हरीष तोशाम, सोमबीर तोशाम, डा जयबीर बुरा, सीताराम सिंगल, जैना शर्मा, सुमीत श्योराण, दिपक सिवाड़ा, दिनेश नंबरदार, मंदीप सुई, सेठी धनाना, सचिन जताई, प्रमोद जोगी, मनोज खानक, विक्रम धनाना, सीना पायल, डिलू राठी, दिलबाग गोलागढ़, सतबीर झपोला, विरेन्द्र बापोड़ा, लाला बापोड़ा, मंजीत जुई, नानक सरपंच, दलसिंह पंघाल, संदीप थिलोड़, उमेद सरपंच, बीट्टू शर्मा, अशोक सिहाग, सन्नी बतरा, रवि आर्य तोशाम, अजीत तिगड़ाना, राजेन्द्र कसवा, प्रदीप तालू, सतबीर घुसकानी, कपूरा घुसकानी, मनदीप घनघस, आजाद गिल, तेजपाल नंबरदार, सुकल राजपूत, सुबेदार अनिल, मुकेश पण्डित, सतपाल राजपूत, तेजपाल राजपूत, सोनू राघव, सुबोत राजपूत, अनिल धनाना, अनिल फौजी, बलवान मुण्डाल, रवि रतेरा, यशवीर घनघस, रविन्द्र ढिलों, बंटी मानहेरु, ललित पंघाल, दिलबाग चैयरमैन पुर, नफे सरपंच, अमित बापोड़ा, जितेन्द्र बापोड़ा, सुखविन्द्र पपोसा, विकास चहल, सुरेन्द्र गोदारा, प्रदीप गोयल, शंकर आहूजा, आशू वाल्मीक, लीला मुंढाल, धमेन्द्र मुंढाल, दिलबाग चैयरमेन, ईश्वर पुनिया, रामकला सिहाग, मेहरचंद सांगवान, जयपाल पे्रमनगर, मांगेराम तोंदवाल, परमजीत छोकर, मास्टर जोगेन्द्र, नरेन्द्र कांटीवाल, रामेश्वर चांग, जसवंत चांग, महाबीर मलिक, बलवंत औरगनगर, सुभाष गर्ग, जसू कुंगड़ा, मास्टर हरिपाल लाग्यान, मुकेश बीडीसी, सुनहरी देवी, जगत संागा, प्रदीप मिताथल, कृष्ण मिताथल, बलबीर गे्रवाल, भोमसिंह, माईराम खटीक, इकबाल सिंह, प्रो. सन्नी, रोहित मोगली, अजय दलाल, दिपक रेवाड़ी खेड़ा, सुशील बामल, शिवकुमार परमार, रुपेश धानक, सुभाष धानक, कुलदीप परमार, रमन नौरंगाबाद, गांधी नौरंगाबाद, पप्पू नंबरदार, पप्पू नंबरदार, नरेन्द्र मिताथल, राममेहर मिताथल, अशोक धानक, अशोक बाली शर्मा, मैनपाल नंबरदार, सतप्रकाश नंबरदार, प्रवीन मण्डाना, दिलबाग तालू, रमेश तालू, मंदीप तालू, हरकेश बडेसरा, महेन्द्र नंबरदार, सुरेश ठेकेदार, कमलजीत यादव, ललित शर्मा, दलबीर जताई, मुन्ना रापडिय़ा, विक्रम बडेसरा, रोहताश दहिया, गुलाब सैनी, सत्यवान धनाना, मदन जुसवाल, मांगे सिवाड़ा, संदीप शर्मा, बलराज चौहान, दिपक राठौर, बलवान जमालपूर, मा. सुरेन्द्र खानक, रवि रतेरा, सुरज मलिक, धीरा शर्मा मुंढाल सहित अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे। 
पार्टी सर्वोपरी, इनेलो हमारी है, हम इनेलो के- दिग्विजय चौटाला


भिवानी: इनसो के राष्टीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने जिला भिवानी में अनेकों जगह पर कार्यक्रमों में शिरकत की। इस दौरान इनसों अध्यक्ष डा. अजय सिंह चौटाला के संर्घष के समय साथ देने वाले लोगों से मिले और डा. अजय सिंह  चौटाला का संदेश उन्हे दिया। आक्रामक अंदाज में दिग्विजय ने विराधियों पर हमला बोलते हुए कहा की पार्टी के अंदर कुछ जयचंद पिछले कुछ सालों से कार्यकर्ताओं की आवाज को दबाना चाहते है। जिसे किसी भी सुरत में सहन नही किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इनेलो पार्टी चौ. देवीलाल की नीतियों की पार्टी है इसके लिए एक एक कार्यकर्ता ने खून पसीना बहाया है। पार्टी के लिए इनेलो सुप्रीमो चौ. ओमप्रकाश चौटाला मार्गदर्शन में डा. अजय सिंह चौटाला ने हरियाणा प्रदेश के कोने कोने में जाकर संघर्ष किया है। उन्होंने कहा कि जब से उन्होंने होश संभाला है। जन लोकप्रिय सांसद दुष्यंत चौटाला सहित स्वंय उन्होंने पार्टी को मजबूत बनाने के लिए कड़ी मेहनत की है। इनसो अध्यक्ष ने कहा कि आज पार्टी में कुछ जयचंद अपने व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए फन फैलाए बैठे है जिनको चिन्हित कर दिया गया है। 17 नवंबर को जींद मेे चौ देवीलाल के संर्घष स्थल से परिवर्तन की शुरुआत की जाएगी। उन्होंने विरोधियो पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जो लोग आज इनेलो पर कब्जा करने चाहते है उन्हे शायद जननायक चौ. देवीलाल की नितिया ही नही पता। दिग्विजय ने कहा कि जननायक चौ देवीलाल ने कहा था कि लोकराज लोकलाज से चलता है इसलिए जनता के सम्मान के लिए हमेशा तत्पर रहना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि डा. अजय सिंह चौटाला ने अपने जीवन में इनेलो के अतिरिक्त इन्हें कुछ सोचा ही नही यहा तक उन्होंने अपने परिवार को भी इनेलो मजबूत बनाने के लिए समय समय पर आदेश दिए जिन्हें हम लोगों ने सर्वोपरी माना। उन्होंने 40 साल के संर्घष मे इनेलो को मजबूत बनाया। 

भिवानी अजय की, अजय भिवानी के, भिवानी की जनता देगी भारी सहयोग

इनसो अध्यक्ष ने आज भिवानी में सबसे पहले धनाना के पूर्व सरपंच ठेकेदार कृपाल की माता के निधन पर शोक व्यक्त किया। इसके बाद वे युवा इनेलो नेता प्रवीन कादयान के निवास स्थान पर पहुंचे और कार्यकर्ताओं से रुबरु हुए। वही उन्होंने युवा नेता सन्नी बतरा के यहा भी पहुँचकर युवा कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने संर्घष के दौर को याद करते हुए कहा कि भिवानी डा अजय सिंह चौटाला की कर्मभूमि रही है। स्वंय उन्होंने भी मात्र 12  साल की उम्र में भिवानी की धरती से राजनीति की पाठशाला में कदम रखा और अपने बुजुर्गो का आर्शीवाद प्राप्त किया था। भिवानी के लोग संर्घष में विश्वास रखते है और परिवर्तन में अव्वल रहते है। डा अजय सिंह चौटाला ने हमेशा भिवानी के लोगों को अपना समझा और एक बार फिर वह उम्मीद के साथ भिवानी की जनता के भारी सहयोग के उम्मीद रखते है। 

बापोड़ा को बसाने वाले बाबा ठा. जगसी को किया नमन

इनसो अध्यक्ष ने गांव बापोड़ा पहुंचकर गांव के संस्थापक बाबा ठा. जगसी के सम्मान में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्यअतिथि के रुप में शिरकत की। उन्होंने बाबा ठा जगसी को नमन करते हुए कहा कि बाबा जगसी जैसी महान विभूति ने एक सर्वसम्माज की सोच के साथ गांव की स्थापना की थी। उनकी वह सोच आज सार्थक होती आ रही है, उन महान विभूति को शत् शत् नमन। वही गांव में पहुंचने पर 36 बिरादरी की तरफ से कार्यक्रम आयोजक मित्रपाल चैयरमेन, ओमी बापोड़ा, तेजपाल नंबरदार, शुकल राजपूत, सुबेदार अनिल, मुकेश पण्डित, विरेन्द्र बापोड़ा, डा, सुरजीत, लाला बापोड़ा, सतपाल नंबरदार, तेजपाल नंबरदार, सोनू राघव, सुबोध राजपूत व अनिल फौजी ने पगड़ी पहनाई। 

तोशाम में इनसो के कार्यालय का किया उद्घाटन, कहा युवाओं की सरकार के साथ 2019 कर रहा इंतजार

तोशाम पहुचे इनसो राष्टीय अध्यक्ष ने तोशाम इनसो शहरी अध्यक्ष सुनील पटवारी के द्वारा खोले गए शहरी इनसो कार्यालय का उद्घाटन किया । वही उन्होंने वरिष्ठ इनेलो नेता राजेन्द्र गांधी के यहा खाना खाने भी पहुंचे। उन्होंने कहा कि आज 2019  में निश्चित तौर पर हरियाणा प्रदेश में युवाओं की सरकार बनेगी और युवाओं की भागीदारी देखने लायक होगी। उन्होंने उपस्थित युवाओं के साथ साथ बुजुर्गो को सम्बोधित करते हुए कहा कि आज जिस जिम्मेदारी के साथ सांसद दुष्यंत चौटाला लोकसभा से लेकर सडक़ तक लड़ाई लड़ रहे है। वह एक दिन निश्चित तौर पर रंग लाएगी। उन्होंने कहा कि आज किसान, दलित, पिछड़े युवाओं के आवाज बनकर संसद में दुष्यंत चौटाला उनके हितों की आवाज उठा रहे है। उन्होंने सभी युवाओं को संगठित होकर इस लड़ाई में सहयोग करने की अपील की। इस अवसर पर मुख्यरुप से जगदीश धनाना, रविन्द्र पटौदी, रजेन्द्र गांधी, रोशनलाल ढाणीमाहू, शंकुतला स्याणी, सुनील मनसरबास, जितेन्द्र शर्मा, वीना सारसर, गुड्डी लाग्यान, भगवती जाटू लोहारी, डीएसपी होशियार सिंह, प्रेम चेयरमैन, प्रदीप खरकियां, जोगेन्द्र बागनवाला, दीपक सिवाड़ा, वजीर मान, अजीत तिगड़ाना, प्रवीन काद््यान, मनमोहर भुरटाना, संदीप चौधरी, रामफल फौजी, मंदीप चेयरमैन, पपल ठाकूर, सुरेन्द्र राठी, अशोक सिहाग, राजेन्द्र कसवा, प्रदीप तालू, ललित पंघाल, प्रवक्ता राजू मेहरा, मनोज खानक, दिनेश नंबरदार, राजेश भारद्वाज, रिषीपाल फौगाट, कृष्ण बजीना, सुबेदार जगमाल, सेठी धनाना, सचिन जताई, हरिश तोशाम, सोमबीर तोशाम, डिलू राठी, सिना पायल, दिलबाग गोलागढ़, डा, दिनेश सनसनवाल, जैना शर्मा, नानक सरपंच, सीताराम, सतपाल तालू, मनोज खानक, डा जयबीर बूरा, सतबीर झपोला, माया हेतमपूरा, उमेद सरपंच, सुखबीर संडवा, सुनील बिडोला, संदीप थिलोड़ा, रवि आर्य, दलसिंह पंघाल, कांग्रेस व बीजेपी छोडक़र आए अशोक नांगल, उपेन्द्र बागनवाला, पूर्व सरपंच चंदगीराम चांदावास, संजय कारखल, आजाद गिल सहित अनेक साथी उपस्थित थे।


दुष्यंत-दिग्विजय के खिलाफ तीन सालों से रची जा रही थी साजिश- नैना चौटाला 


खरखौदा/ सोनीपत: जिस भी पार्टी की रैली होती है, वहां पर नेताओं के पक्ष में जिंदाबाद के नारे लगाए जाते हैं। अगर रैलियों में जिंदाबाद के नारे न लगाए जाएं तो कार्यकर्ताओं को सत्संगों में जिंदाबाद के नारे कौन लगाने देगा। कार्यकर्ता अपने पार्टी और अपने नेताओं के जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे न कि किसी विपक्षी पार्टी के लोगों के नारे लगा रहे थे। अब आप ही बताओ कि नारे लगाना कहां का अनुशासन तोडऩे की श्रेणी में आता है। अगर नारे लगाना अनुशासनहीनता में नहीं आता तो दुष्यंत एवं दिग्विजय को पार्टी से क्यों निकाला गया है। जाहिर है कि मेरे दोनों बेटों दुष्यंत एवं दिग्विजय के खिलाफ पिछले तीन सालों से भी अधिक समय से गहरी साजिश रची जा रही थी। जनता अब जान चुकी है कि दुष्यंत के बढ़ती लोकप्रियता और पार्टी संगठन को मिल रही मजबूती को कुछ स्वार्थी लोग हजम नहीं कर पा रहे थे। यह बात डबवाली से विधायिका नैना चौटाला ने कही। वे रविवार को खरखौदा हलके के गांव फरमाणा में हरी चुनरी की चौपाल में उमड़ी़ हजारों महिलाओं की भीड़ को संबोधित कर रही थी। गांव फरमाणा पहुंचने पर नैना चौटाला का फूल बरसा कर स्वागत किया गया। नैना चौटाला ने कहा कि हरी चुनरी की चौपाल में उमड़ी रही भीड़ या साबित कर रही है कि दुष्यंत व दिग्विजय चौटाला पूरी तरह से निर्दोष हैं। उन्होंने कहा कि डा. अजय सिंह चौटाला ने चार दशक से पार्टी संगठन को मजबूत करने के लिए दिन-रात मेहनत की, गली-गली, घर-घर जाकर लोगों को पार्टी से जोड़ा और 4 वर्ष से सक्रिय हुए कुछ अति महत्वाकांक्षी लोग चार दशकों की डा. अजय चौटाला की मेहनत को दरकिनार कर पार्टी और संगठन को मिटाना चाहते हैं। ऐसे स्वार्थी लोगों के न तो सपने पूरे होंगे और न ही प्रदेश की जनता उन लोगों के मंसूबे पूरे होनी देगी। उन्होंने कहा कि पार्टी के कुछ लोग अजय सिंह चौटाला के समर्थकों को कुछ लोगों के द्वारा न केवल जगह-जगह धमकाया जा रहा है बल्कि उन्हें अपमानित भी किया जा रहा है। यह बात किसी से छिपी नहीं है।  अजय सिंह चौटाला ने पार्टी संठगन को मजबूत करने के लिए 40 वर्ष झौंक दिए। उन्होंने रायमलिकपुर से लेकर चंडीगढ़ तक पैदल चल कर गांव-गांव जाकर लोगों को पार्टी से जोड़ा है और पार्टी को नया जोश और ताकत दी। हरियाणा की जनता उनकी मेहनत और पार्टी के प्रति समर्पण को भुला नहीं सकती उन्होंने कहा कि जनता द्वारा चुने गए सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में जनता की आवाज उठाई, क्या देश की सबसे बड़ी पंचायत में जनता की आवाज बुलंद करना अनुशासनहीनता है। दुष्यंत और दिग्विजय ने पार्टी को मजबूत करने के लिए लाखों युवाओं को पार्टी से जोडऩे और छात्र संघ के चुनाव बहाल करवाने के लिए दिग्विजय चौटाला आमरण अनशन तक किया। 
उन्होंने हरी चुनरी की चौपाल में उपस्थित जनसैलाब से समर्थन मांगते हुए कहा कि आप आप अपना प्यार व समर्थन दुष्यंत व दिग्विजय चौटाला के साथ बनाए रखें ताकि इनेलो पार्टी और संगठन को और मजबूती मिले। उन्होंने कहा कि महिलाएं लोकतंत्र में अपनी ताकत को कम न आंके और अपनी मनचाही इनेलो की सरकार बनाने के लिए दिन-रात संगठित होकर मेहतन करें और पार्टी सुप्रीमो औमप्रकाश चौटाला को मजबूती प्रदान करें। नैना चौटाला ने कहा कि चौ. ओमप्रकाश चौटाला जी संगठन और परिवार के मुखिया हैं, उनका नेतृत्व और दिशा-निर्देश हमें सदा मंजूर है और हमेशा रहेगा। उन्होंने कहा कि इनेलो पार्टी ताऊ स्व. देवीलाल जी का लगाया हुआ एक वटवृक्ष है और कुछ लोग पार्टी को दीमक की तरह खा कर खोखला करना चाहते हैं, उनके मंसूबे प्रदेश की जनता किसी भी सूरत में पूरे नहीं होने देगी। इस अवसर पर इनेलो के राष्ट्रीय प्रवक्ता डा. केसी बांगड़, कार्यक्रम प्रभारी राजेन्द्र लितानी, शीला भ्याण, सोनीपत की महिला विंग की पूर्व जिला प्रधान बबीता दहिया,अनीता खांडा, संतोष बांगड़, पूर्व चेयरमैन कमलेश, निर्मला वर्मा, विद्या मोर, सरोज बैनिवाल, रीति अंतिल, रेखा बाल्याण, मीना मकडौली, अनीता कुराड़, शबीना देवी, निर्मला खत्री, सरोज दहिया, सुनीता जांगड़ा, किरण, दर्शना, कपिला कादियान, सरोज रिढ़ाऊ, अनिता शर्मा,  बागपति भालगढ़, कांता गांधीनगर, अंजली अंतिल, दर्शना गुहणा, अनिल खंदराई,कमलेश रबड़ा,सुरेश कुमारी, नसीब कौर,ललिता भोरिया, सुनीता राठी, रामरति, झज्जर जिला अध्यक्ष बबीता पूनिया, अनीता गन्नौर, अनिता मलिक, राजपति सरपंच, पिछड़ा वर्ग के प्रदेशाध्यक्ष तेलूराम जोगी, विधायक अनूप धानक, पूर्व विधायक रमेश खटक, राजकुमार रिढ़ाऊ, अठगामा प्रधान सतबीर सिंह गहलौत,राजू धानक, पूर्व सरपंच सुनील, मोहसिन चौधरी, सोनीपत के पूर्व जिला अध्यक्ष कुलदीप मलिक, सुमित राणा, डा. कपूर नरवाल, राज सिंह दहिया सहित भारी संख्या में महिलाएं उपस्थित थी।
चुनावों में भाजपा-कांग्रेस को सत्ता से बाहर कर देंगे साजिशों का मुंहतोड़ जवाब- अभय चौटाला 


गुड़गांव: जब-जब भी इनेलो प्रदेश में पूर्ण बहुमत की ओर अग्रसर हुई है तब-तब विरोधी दलों ने उसके खिलाफ षड्यंत्र करने की कोशिश की है। इनेलो बसपा के कर्मठ कार्यकर्ता विरोधियों की चालों को भलीभांति जानते हैं और आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनावों में भाजपा और कांग्रेस को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाकर उनकी साजिशों का मुंहतोड़ जवाब देंगे। उक्त शब्द इनेलो के वरिष्ठ नेता, जलयुद्ध नायक व नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला ने आज गुड़गांव में बसई कम्यूनिटी सैन्टर में आयोजित इनेलो बसपा कार्यकर्ता सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहे। नेता प्रतिपक्ष का गुड़गांव में पंहुचने पर मोटर साईकलों के काफिले तथा ढोल नगाड़ों के साथ फूल मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया तथा गांव बसई की ओर से सम्मान सूचक पगड़ी बांधकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर उन्होंने कांग्रेस व भाजपा पर इनेलो को तोडऩे के लिए साजिश रचने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि इनेलो-बसपा गठबंधन इस बार 1987 विधानसभा चुनाव को दोहराने जा रही है और प्रदेश में पूर्ण बहुमत से गठबंधन की सरकार बनेगी। नेता विपक्ष ने दोहराया कि इनेलो व बसपा प्रदेश के हितों की लड़ाई लडऩे के लिए वचनबद्ध है। किसान के खेत को पानी मिले उसके लिए एसवाईएल नहर के निर्माण के लिए फिर से आंदोलन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला हरियाणा के हक में आए दो साल का वक्त हो चला है लेकिन ये खेदजनक है कि भाजपा भी कांग्रेस की भांति नहर निर्माण के मुद्दे पर राजनीति कर रही है। प्रदेश सरकार ने दादूपुर नलवी और मेवात कैनाल के निर्माण के लिए भी कोई पहल नहीं की जो दर्शाती है कि इस सरकार का जनता व किसानों की समस्याओं से कोई वास्ता नहीं है। श्री चौटाला ने सरकार की किसान विरोधी मानसिकता की निंदा करते हुए कहा कि प्रदेश का किसान पहले ही कर्जे की मार झेल रहा था, उस पर भाजपा सरकार की किसान विरोधी नीतियों ने उसकी कमर तोडऩे का काम किया है। उन्होंने कहा कि चार साल से किसानों को फसल बीमा योजना के नाम पर लूटने वाली भाजपा ने बे-मौसमी बारिश से बर्बाद फसलों का मुआवजा अभी तक नहीं दिया। वहीं मुनाफाखोरों को लाभ पहुंचाने के लिए सरकार ने धान की फसल को नमी के नाम पर निर्धारित मूल्य से 250 से 300 रुपए प्रति किं्वटल कम दामों पर खरीदा। नेता विपक्ष ने यह भी कहा कि भाजपा ने चुनाव से पूर्व झूठे वादे कर हर वर्ग को गुमराह करने का काम किया है। उन्होंने ओम प्रकाश चौटाला द्वारा प्रदेश की जनता से किए गए वादों को दोहराते हुए कहा कि इनेलो-बसपा गठबंधन की सरकार बनने पर किसान, गरीब व छोटे दुकानदारों के ऋण माफ किए जाएंगे साथ ही किसानों के ट्यूबवैल के बिजली बिल समाप्त और घरों में बिजली के बिल आधे कर दिए जाएंगे। गरीब परिवार की बेटियों की शादी के लिए 5 लाख रुपए कन्यादान की राशि दी जाएगी। नेता विपक्ष ने यह भी कहा कि प्रदेश के हर एक घर में एक शिक्षित युवा को सरकारी नौकरी दी जाएगी वहीं अगर कोई रोजगार से चूक गया तो उन युवाओं को 15 हजार बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा। 
इस अवसर पर इनेलो के वरिष्ठ नेता एंव प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा, पूर्व डिप्टी स्पीकर गोपीचन्द गहलोत, पूर्व विधायक नफे सिंह राठी, पूर्व विधायक गंगाराम, पूर्व विधायक रामबीर, नेतराम एडवोकेट, जिलाध्यक्ष किशोर यादव, रमेश दहिया, जसबीर ढिल्लो, युवा प्रदेश अध्यक्ष जस्सी पेटवाड़, अटलबीर कटारिया, शमशेर कटारिया, कृष्ण यादव, बेगराज गुर्जर, सतबीर तंवर, मानसिंह चेयरमैन, सुखबीर तंवर, सतीश राघव, प्रताप कदम, रविन्द्र तंवर, महेन्द्र लहकड़ा, धर्मबीर बाघोरिया, धर्मपाल राठी, कपिल त्यागी, राजेन्द्र धनखड़, अतर सिंह रूहिल, शशी धारीवाल, अशोक जांगड़ा, नरेश घनघस, शकील अहमद, रमेश सेठी, रतीराम शर्मा, रोहताश खटाणा, राकेश गर्ग, रवि सिंगला, विजय डागर, कांसीराम सरपंच सहित हजारो इनेलो बसपा पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित थे।
मुझे घेरने वाले हर षड्यंत्र के चक्रव्यूह को भेदूंगा- दुष्यंत चौटाला 


चंडीगढ़: अगर मैं इनेलो से निष्कासित हूं तो अभी तक इनेलो सुप्रीमो द्वारा हस्ताक्षरित पत्र क्यों नहीं सार्वजनिक किया जा रहा। इसके पीछे एक गहरा षड्यंत्र है क्यों कि आज तक न तो अनुशासन कमेटी की कोई औपचारिक बैठक हुई और न ही मुझे कमेटी ने अपना पक्ष रखने के लिए बुलाया। मुझे तो यह भी अंदेशा है कि बंद कमरे में अनुशासन कमेटी की रिपोर्ट तैयार की गई है और इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला ने उस पर हस्ताक्षर नहीं किए है। मैं इनेलो प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला से दो बार मिल कर वस्तुस्थिति से अवगत करवा चुका है और उन्होंने न केवल मेरी बात को ध्यान से सुना अपितु मेरी बातों से सहमति भी जताई। यह बात सांसद दुष्यंत चौटाला ने शनिवार को चंडीगढ़ प्रैस क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता में कही। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने स्पष्ट रूप से कहा कि मुझे घेरने के लिए एक षड्यंत्र के तहत चक्रव्यूह रचा गया है। जनता के आशीर्वाद एवं ताऊ देवीलाल की नीतियों पर चलने वाले कार्यकर्ताओं के समर्थन से वो हर चक्रव्यूह को भेदेंगे। सांसद चौटाला ने एक शेयर के माध्यम से अपनी बात कुछ यूं रखी।
 
वख्त का रूख बदलना आता है,
कांटों पर चलना भी आता है। 
अभिमन्यु समझकर कुछ लोगों ने रच दिया चक्रव्यूह, 
हमें मिल कर चक्रव्यूह तोड़ना भी आता है। 

सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि  कुछ लोग षड्यंत्र रच कर पार्टी को तोडऩे व पार्टी के निष्ठावान कार्यकर्ताओं को पार्टी से बाहर करने की साजिश रच रहे हैं। उन्होंने कहा कि 17 नवंबर को जींद में पार्टी बैठक में पार्टी के वरिष्ठ नेता व इनेलो के प्रदेश महासचिव डा. अजय सिंह इस पूरे घटनाक्रम पर कार्यकर्ताओं से विचार विमर्श कर भावी रणनीति तैयार करेंगे। सांसद दुष्यंत ने आरोप लगाया कि पार्टी में चार पीढिय़ां लगातार काम कर रही हैं लेकिन कुछ लोग उन्हें भी कांग्रेसी बता रहे हैं। 
सांसद ने पत्रकार वार्ता में मौजूद नरवाना से विधायक पिरथी नंबरदार, उकलाना से विधायक अनूप धानक, पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष फूलवती, पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता डा. केसी बांगड़, पूर्व मंत्री जगदीश नैय्यर, पूर्व विधायक सरदार निशान सिंह, पूर्व विधायक रमेश खटक, पूर्व विधायक मक्खन सिंह, एससी सैल के प्रदेशाध्यक्ष अशोक शेरवाल, अंबाला से हरपाल कंबोज, जींद जिला के प्रधान रहे कृष्ण राठी, हिसार के पूर्व प्रधान राजेंद्र लितानी,  पूर्व युवा प्रदेशाध्यक्ष रविंद्र सांगवान का नाम लेते हुए कहा कि क्या ये सब कांग्रेसी हैं या कांग्रेसी पेड वर्कर हैं। 
सांसद दुष्यंत चौटाला ने पत्रकारों से बताया कि वह 15 वर्ष की आयु से नरवाना चुनाव से पार्टी की सेवा कर रहे हैं। परन्तु पिछले एक वर्ष से कुछ लोग उन्हें लगातार नजरअंदाज कर रहे हैं और उनकी व दिग्विजय चौटाला की पार्टी में डयूटियां नहीं लगाई जा रही हैं। उन्होंने कहा यह भी कहा कि पिछले लंबे समय से पार्टी की बैठकों को लेकर पार्टी कार्यालय की ओर कोई अधिकृत सूचना उन्हें नहीं दी जा रही थी। उन्होंने कहा कि पार्टी के संविधान के मुताबिक पार्टी के संसदीय दल के नेता अथवा सांसद को पार्टी को प्रदेश कार्यालय सचिव न तो नोटिस जारी कर सकता और न ही उन्हें निष्कासन का कोई अधिकार है। उन्होंने कहा कि पार्टी के संसदीय दल दल के नेता व सांसद को नोटिस जारी करने व पार्टी से निकालने का अधिकार केवल पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक कर अथवा पार्टी सुप्रीमो के अध्यक्षता वाली कमेटी के पास है। 
पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री सरदार प्रकाश सिंह बादल द्वारा पार्टी घटनाक्रम के मामले में हस्तक्षेप करने संबंधी सवाल के जवाब में सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि वह हमारे परिवार से सबसे बड़े हैं और मेरे पिता डा. अजय चौटाला जी ने, मैंने और दिग्विजय चौटाला ने अभिवादन कर उनसे दीपावली त्यौहार पर उनका आशीर्वाद लिया था। 
सांसद दुष्यंत ने एक सवाल के जवाब में स्पष्ट किया कि जननायक सेवा दल वर्ष 2002 से डा. अजय चौटाला द्वारा गठित सामाजिक दल है जिसने गुजरात भूकंप में भी अपने स्वयंसेवक भेज कर लोगों की मदद की थी। यह पूरी तरह से गैर राजनैतिक संगठन है जिसका कोई भी सदस्य सदस्यता ग्रहण के प्रथम पांच वर्ष तक चुनाव नहीं लड़ सकता। इस अवसर पर  झज्जर जिला युवा अध्यक्ष उपेंद्र कादियान, कुरूक्षेत्र के युवाजिला अध्यक्ष सुनील राणा, फतेहाबाद युवा जिला अध्यक्ष अजय संधू, कैथल के जिला प्रवक्ता एडवोकेट हरदीप पाडला, रणदीप कौल, जगाधरी से मास्टर राजकुमार सैनी, पूर्व जज सुल्तान सिंह सहित अन्य पदाधिकारी उपपस्थित थे |  
जननायक सेवा दल ने नियुक्त किए 8 प्रवक्ताओं का पैनल

चंडीगढ़: प्रदेश की वर्तमान राजनैतिक परिस्थितियों और बदलते राजनैतिक हालात पर चर्चा करने हेतु जननायक सेवा दल के संरक्षक मंडल द्वारा सेवा दल के राष्ट्रीय पदाधिकारियों एवं सलाहकार मंडल की एक आपात बैठक आयोजित की गयी। आयोजित बैठक के दौरान वर्तमान राजनैतिक परिस्थितियों एवं दिन प्रतिदिन बदलते घटनाक्रम पर विस्तारपूर्वक चर्चा करने के साथ ही साथ इस बात पर भी विचार किया गया कि ऐसी स्थिति में जननायक सेवा दल को अपनी रचनात्मक एवं सकारात्मक भूमिका के निर्वहन के लिए क्या उपाय किए जाने चाहिए। बैठक में आयोजित चर्चा के दौरान सलाहकार मंडल के सदस्यों द्वारा संरक्षक मंडल एवं राष्ट्रीय पदाधिकारियों को सूचित किया गया कि वर्तमान राजनैतिक स्थितियों के दृष्टिगत समाचार माध्यमों विशेषकर इलेक्ट्रानिक मीडिया द्वारा आए दिन न्यूज चैनलों पर आयोजित होने वाले सम-सामयिक विषयों पर चर्चा के लिए सेवा दल के पदाधिकारियों को आमंत्रित किया जा रहा है। इसे ध्यान में रखते हुए हमें इस विषेश कार्य के लिए सेवा दल के ऐसे योज्य एवं सुशिक्षित पैनलिस्टों से युक्त एक ऐसी टीम का निर्माण करना चाहिए जो सेवा दल के एक जिम्मेदार कार्यकर्ता होने के साथ ही साथ ऐसी क्षमताओं से युक्त हों कि वे लोगों को जननायक सेवा दल के उद्देश्यों से अच्छी तरह से अवगत करवा सकें। सलाहकार मंडल की इस राय पर कार्य करते हुए उपस्थित संरक्षक मंडल, राष्ट्रीय पदाधिकारियों एवं सलाहकार मंडल द्वारा संयुक्त रुप से विचार विमर्श के उपरांत जननायक सेवा दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता दिनेश डागर द्वारा 8 पैनलिस्ट नियुक्त करने की घोषणा की गयी। पैनलिस्ट के नाम एवं विवरण इस प्रकार से हैं। 

1. प्रदीप देसवाल चौधरी देवी लाल एवं डा. अजय सिंह चौटाला को अपना आदर्श मानने वाले प्रदीप देसवाल पुत्र स्वर्गीय रणबीर सिंह बहादुरगढ़ (झज्जर जिले)के निवासी हैं। महर्षि दयानन्द विश्वविद्यालय से कानून में स्नातकोत्तर करने के उपरांत सर्वाेच्च न्यायालय और उच्च न्यायालय में न्यायधीशों की नियुक्ति प्रक्रिया के विशेषणात्मक अध्ययन पर शोध कार्य में संलग्न हैं। लगभग डेढ़ दशक से ज्यादा समय से इनेलो में अपनी सेवाएं देने वाले प्रदीप देसवाल ने अपनी योज्यता एवं कर्मठता के बल पर संगठन में विभिन्न पदों पर कार्य करते हुए उनका जिम्मेदारी पूर्वक निर्वहन किया। पूर्व में कई वर्षों तक एमडीयू इनसो के अध्यक्ष पद को सुशोभित करने के साथ ही साथ ये झज्जर जिले में इनसो के इन्चार्ज और रोहतक जिले के इनसो प्रेसिडेन्ट पद की जिम्मेदारी भी सफलता पूर्वक निभा चुके हैं। इसके अलावा ये पिछले चार वर्षों से इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता की भूमिका का निर्वहन कर रहे थे। अपनी कुशल संगठन शक्ति के चलते ये पिछले चार वर्षों से लगातार इनसो के प्रदेश अध्यक्ष की भूमिका का सफलतापूर्वक निर्वहन कर रहे हैं। 

2. एडवोकेट मनदीप बिश्रोई हिसार के रहने वाले एडवोकेट मनदीप बिश्रोई 2006 में डा. अजय सिंह चौटाला की रहनुमाई में इनेलो में शामिल हो गए थे। 2008 से 2013 तक ये इनेलो कानूनी प्रकोष्ठ के प्रधान महासचिव के पद पर रहे। 2010-11 में ये जिला बार एसोसिएशन के महासचिव चुने गए। 2013 से 2018 तक इन्होंने इनेलो हिसार जिले में जिला प्रवक्ता के पद का जिम्मेदारी पूर्वक निर्वहन किया। 2014 में युवा सांसद दुष्यंत चौटाला द्वारा इन्हें टीवी पैनलिस्ट के रुप में जिम्मेदारी सौंपी गयी जिसे इन्होंने सफलतापूर्वक निभाने का काम किया। इसके अलावा 2017 में इन्हें इनेलो कानूनी प्रकोष्ठ के हिसार जिलाध्यक्ष की जिम्मेदारी प्रदान की गयी। 

3. अजय गुलिया झज्जर जिले में स्थित जहांगीरपुरी गांव के रहने वाले अजय गुलिया राजनीतिज्ञ होने के साथ ही साथ पेशे से एडवोकेट हैं। इससे पूर्व अजय गुलिया युवा इनेलो में बादली हलके के प्रधान पद के दायित्व का निर्वहन करने के अलावा इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता पद को भी सुशोभित कर चुके हैं। प्रदेश में खेलों को बढ़ावा देने के साथ ही साथ खिलाडिय़ों के उत्थान के लिए भी ये सतत प्रयासरत रहते हैं। वर्तमान में ये हरियाणा वेट लिफ्टिंग एसोसिएशन के उपाध्यक्ष तथा हरियाणा जिम्रास्टिक एसोसिएशन के भी उपाध्यक्ष हैं। 

4. अरविन्द भारद्वाज कंप्यूटर एप्लीकेशन में मास्टर डिग्री होल्डर फरीदाबाद निवासी अरविन्द भारद्वाज पूर्व में युवा इनेलो के जिलाध्यक्ष रह चुके हैं। पिछले चार वर्षों से ये इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता के पद की जिम्मेदारी का निर्वहन कर रहे हैं। वर्ष 2014 के हरियाणा विधानसभा चुनाव में ये इनेलो प्रत्याशी के रुप में चुनाव भी लड़ चुके हैं। 

5. बलराम माकडौली कानून से स्नातक डिग्री होल्डर रोहतक निवासी बलराम माकडौली छात्र जीवन से ही राजनीति से जुड़े रहे हैं। पूर्व में ये इनसो रोहतक के जिलाध्यक्ष के दायित्व का निर्वहन करने के अलावा युवा इनेलो के किलोई हलका अध्यक्ष तथा युवा इनेलो के रोहतक जिला अध्यक्ष पद को भी सुशोभित कर चुके हैं। वर्तमान में इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता की जिम्मेदारी का निर्वहन कर रहे हैं। बलराम माकडौली जननायक सेवा दल के राष्ट्रीय वरिष्ठ उप प्रधान भी हैं। 

6. विवेक चौधरी इंजीनियरिंग से स्नातक (बी.टेक)अंबाला निवासी विवेक चौधरी एक दशक से ज्यादा समय से इनेलो से जुड़े हुए हैं। इनसो से लेकर इनेलो तक में विभिन्न पदों की जिम्मेदारी का सफलतापूर्वक निर्वहन करने वाले विवेक चौधरी वर्तमान में इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता के रुप में कार्यरत हैं। 

7. दिनेश अग्रवाल महर्षि दयानन्द विश्वविद्यालय से वाणिज्य में स्नातक गुरुग्राम निवासी दिनेश अग्रवाल पिछले दो दशक से ज्यादा समय से इनेलो से जुड़े हुए हैं। 1995 में इन्हें पार्टी के यूथ विंग के  प्रदेश महासचिव पद की जिम्मेदारी सौंपी गयी थी और ये 2001 तक लगातार 6 वर्षों तक अपने दायित्व का सफलतापूर्वक निर्वहन करते रहे। पिछले चार वर्षों से ये इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता की जिम्मेदारी का निर्वहन कर रहे हैं।

8 दलबीर धनखड़ : दलबीर धनखड़ को इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पैनललिस्ट नियुक्त किया है। श्री दलबीर धनखड़ पिछले 4 साल से इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता थे और साथ में संगठन सचिव का कार्यभार देख रहे थे। पेशे से इलेक्ट्रिकल इंजीनियर धनखड़ अजय चौटाला के नजदीकी साथियों में गिने जाते हैं और उन्होंने पिछले दिनों दुष्यंत और दिग्विजय को पार्टी से निकालने के विरोध में इनेलो छोड़ दी थी।
जननायक सेवा दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री दिनेश डागर ने बताया कि श्री दलबीर धनकड़ दिल्ली और एनसीआर में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का पैनलिस्ट का कार्यभार संभालेंगे
इस अवसर पर टीवी पैनलिस्टों के नामो की घोषणा करते हुए जननायक सेवा दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता दिनेश डागर ने कहा कि प्रदेश की वर्तमान परिस्थितियों तथा टीवी न्यूज चैनलों की मांग के दृष्टिगत हमने अपने विवेक के अनुसार योज्य एवं उर्जावान कार्यकर्ताओं को इस पैनल में शामिल किया है। आवश्यकता महसूस होने पर अभी इसमें और भी नाम शामिल किए जा सकते हैं। दिनेश डागर ने कहा कि मुझे पूर्ण विश्वास है कि हमारे ये पैनलिस्ट संगठन के दायित्व का बखूबी निर्वहन करेंगे तथा सेवा दल की नीतियों एवं इसके उद्देश्यों को आम जन तक पहुंचाने का कार्य करेंगे।   
डा. अजय सिंह चौटाला की साढ़े 6 सौ किलोमीटर से ज्यादा की पदयात्रा से हुई थी पार्टी मजबूत- दिग्विजय चौटाला

भिवानी: इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने कहा कि कार्यकर्ता उन्हें जाने से भी प्यारे हैं। और कार्यकर्ताओं के लिए लडऩा जहां उन्होंने जननायक चौधरी देवीलाल के आत्मकथा में पढ़ा है वहीं उन्होंने अपने दादा चौ. औम प्रकाश चौटाला व पिता डा. अजय सिंह चौटाला से सीखा है। 
दिग्विजय ने कहा कि डा. अजय सिंह चौटाला ने हमेशा कार्यकर्ताओं को गले से लगाया है और उनके  कामों को एक कलम से करने का काम किया है। चौटाला ने कहा कि राजनीति के अंदर जिंदाबाद के नारे लगाने के लिए आप किसी को बाध्य नहीं कर सकते और ना ही किसी को जिंदाबाद बोलने के लिए खरीद सकते हैं। जिंदाबाद के नारे केवल उन लोगों के लगते हैं जो जनता के दिलों में बसते हैं ओर जनता के लिए काम करते हैं। उन्होंने कहा कि जननायक चौधरी देवीलाल ने एक बात बड़े ही स्पष्ट शब्दों में कही थी कि यदि शासन चलाना है तो  लोकराज लोकलाज से चलाना होगा। उन्होंने कहा कि इनेलो राष्ट्रीय महासचिव डा. अजय सिंह चौटाला व देश के सबसे मेहनती सांसद दुष्यंत चौटाला ने हमेशा कार्यकर्ताओं के दिलों में जगह बनाई है और जननायक देवीलाल की सीख को हमेशा याद रखा है। दिग्विजय ने कहा कि 17 नवम्बर को जींद में प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक का आयोजित होगी। जिसमें डा. अजय सिंह चौटाला प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्यों के साथ विचार विमर्श करके बड़ा फैसला करेंगे। उन्होंने कहा कि आज केवल मात्र दस से 15 लोग इनेलो को तोडऩे पर लगे हुए हैं। यह वहीं लोग हैं जो भूपेंद्र हुड्डा और मनोहर लाल खट्टर के साथ खाना खाते हैं यही नहीं कुछ लोगों तो ऐसे हैं जिन्होंने पूर्व में भी पार्टी के साथ धोखा किया था। दिग्विजय ने कहा कि जब से दुष्यंत व मैने दुनिया में कदम रखा है तब से केवल मात्र जननायक चौ. देवीलाल के जनहितैषी कार्यों और चौ. औम प्रकाश चौटाला के दिशा निर्देश को सर्वोपरी माना है। इनेलो संगठन के लिए तो उन्होंने मात्र 12 से 14 वर्ष की उम्र में लोगों से मिलना शुरू कर दिया था। उन्होंने कहा कि 2008 में उन्होंने स्वयं व दुष्यंत चौटाला ने डा. अजय सिंह चौटाला के साथ  रायमलिकपुर  से चण्डीगढ़  तक साढ़े 6 सौ  किलोमीटर इस पदयात्रा में भाग लिया था। उस समय ये लोग दिखाई भी नहीं देते थे यहीं नहीं 2009 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने भिवानी-महेंंद्रगढ़ की एक एक गली में जाकर कार्यकर्ताओं से मिलने का काम किया और उनके दुख तकलीफों को चौ. औम प्रकाश चौटाला व डा. अजय सिंह चौटाला तक पहुंचाने का काम किया था। दिगिवजय ने बताया कि डा. अजय सिंह चौटाला की पदयात्रा के कारण पार्टी संगठन मजबूत हुआ और अगाामी लोकसभा में 32 विधायक लेकर प्रदेश की विधानसभा पहुंचा।  यहीं नहीं इसके बाद तो उन्होंने व दुष्यंत ने पार्टी संगठन को समय-समय पर मजबूत किया।  पार्टी शीर्ष नेतृत्व ने जब-जब उनकी जिम्मेदारी लगाई उसको उन्होंने गम्भीरता से निभाते हुए पार्टी संगठन में नए कार्यकर्ताओं को शामिल करने का काम किया। दिग्विजय ने कहा कि आज कुछ लोग अखबारी ब्यान देकर व भाषण देकर पल्ला झाड़ रहे हैं लेकिन धरातल पर उन लोगों ने कभी भी पार्टी संगठन के लिए काम नहीं किया। दिग्विजय ने कहा कि डा. अजय सिंह चौटाला आगामी कुछ दिनों में हरियाणा प्रदेश के कोने कोने में जाकर न्याय की इस लड़ाई में सबको साथ लेंगे और कुछ मोकापरस्त लोगों के कारण जो लोग पार्टी को छोड़ गए थे उन्हें वो अपने साथ जोडऩे का काम करेंगे। दिग्विजय चौटाला ने कहा कि 17 नवम्बर को जब जींद की धरती जननायक चौधरी देवीलाल के संघर्ष स्थल पर प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक आयोजित होगी तो निश्चिततौर पर बड़ा फैसला होगा। और यह फैसला निष्ठावान, जुझारू, संघर्षशील कार्यकर्ताओं के हकों का फैसला होगा। जिन कार्यकर्ताओं को कांग्रेसी कहकर उनके साथ अन्याय करने का काम किया गया उन कार्यकर्ताओं को निश्चिततौर पर 17 नवम्बर को  डा. अजय सिंह चौटाला संजीवनी देने का काम करेंगे। 
पार्टी के लिए अपने बच्चों का निवाला व खून पसीने की मेहनत करने वाले कांग्रेसी नहीं- अजय चौटाला


भिवानी: पार्टी को हमने 40 साल से सींचा हैं, इनेलो के लिए मैने और मेरे बच्चों ने खून पसीना एक किया है और पार्टी के संघर्ष को निष्ठावान कार्यकर्ताओं ने मजबूत स्थिति में पहुंचाया है, आज उन्हीं कार्यकर्ताओं को कांग्रेसी कहने वाले पहले अपने गिरेबान में झांककर देखें। यह बात आज इनेलो के राष्ट्रीय महासचिव डॉ. अजय सिंह चौटाला ने भिवानी के देवीलाल सदन में हजारों की भीड़ को सम्बोधित करते हुए कहे। चौटाला ने इशारों-इशारों में विरोधियों को महाभारत का दुर्योधन बताया और कहा कि अब याचना नहीं रण होगा और दुर्योधन धराशायी व हिंसा का जिम्मेवार होगा। वहीं इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने कहा कि हमें चौटाला ने नहीं निकाला, लेकिन निकालने वालों को बख्सेंगे नहीं। अजय सिंह चौटाला ने अभय सिंह चौटाला द्वारा कुछ कार्यकर्ताओं को कांग्रेसी कहने पर इशारों ही इशारों में बड़ा पलटवार किया। अजय चौटाला ने कहा कि कांग्रेसी कहने वालों की आंखें भी नहीं खुली थी, तब से पहले बहुत से कार्यकर्ता पीढ़ी दर पीढ़ी इनेलो से जुड़े हैं और पार्टी के लिए उन्होने अपने बच्चों के मुह के निवाले व खून पसीने की मेहनत लगाई है। साथ ही उन्होने कहा कि मैनें 40 सालों से राजनीति में हूं। इस दौरान उन्ही लोगों ने बहुत से कार्यकर्ताओं को मीटिंगों व मंचो पर, गली-मौहलों में डराया धमकाया। वो कार्यकर्ता मेरे पास आए और मेरे कहने पर उन्होने खुन के घुंट पिए। पर अब ऐसा नहीं होगा। कार्यक्रताओं के मान सम्मान के साथ समझौता नहीं होने देगें। अजय चौटाला ने कहा कि जिला स्तर पर बैठकों के बाद 17 को देवीलाल की कर्मभूमि जीन्द में रैली कर बड़ा फैसला लिया जाएगा और उसी दिन वहीं प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक होगी। अजय ने कहा कि जनशक्ति सबसे बड़ी शक्ति होती है जो आसमां से सितारों को तोङ कर जमी पर और जमीन के जर्रे को आसमां ने चढा कर पताका के रूप में फहरा सकती है। उन्होने कहा कि ओमप्रकाश चौटाला अपने भाषणों में महाभारत का उदाहरण देते हैं जिसमें पांडवों द्वारा दुर्योधन से पांच गांव मांगने पर मना किया था। अजय ने कहा कि उसके बाद याचना नहीं, रण हुआ और दुर्योधन धराशायी और हिंसा का जिम्मेवार बना। इस दौरान अपने पिता के साथ पहुंचे दिग्विजय सिंह ने कहा कि अब सत्ता व राजनीति में लोगों को डराने धमकाने वाले नहीं, बल्कि विनम्र लोग आएंगें। अभय चौटाला द्वारा कुछ रोज पहले इनेलो सरकार में भिवानी में दिए रोजगार पर कहा था कि ये रोजगार ना मैने ना किसी और ने दिए, बल्कि ओमप्रकाश चौटाला ने दिए। इस सवाल पर दिग्विजय ने कहा कि हम अभय का सम्मान करते हैं पर ऐसे बयान देना कोई बङपन नहीं, बल्कि यहां के लोगों के दर्द को बढाना है। उन्होने नई पार्टी की संभावनाओं को नकारते हुए कहा कि नई पार्टी की जरूरत नहीं पङेगी। क्योंकि ये चश्मा, झंडा व पार्टी हमारी है। साथ ही उन्होन कहा कि ओमप्रकाश चौटाला ने हमे नहीं निकाला, लेकिन ऐसा करने वालों को हम बखसेंगे नहीं। वहीं नारों को लेकर विवाद के सवाल पर दिग्विजय ने कहा कि नारे मुर्दों के नहीं, जिंदा लोगों के लगते हैं और आगे भी लगते रहेंगें। इस दौरान जगह जगह पर इनेलो राष्ट्रीय महासचिव का स्वागत किया गया वहीं हजारों की संख्या में स्थानीय देवीलाल सदन में कार्यकर्ताओं ने अपने नेता को सिर आंखों पर बैठाया। उन्होंने अजय की उपस्थिति में जननायक चौ. देवीलाल, ओमप्रकाश चौटाला, अजय सिंह चौटाला के नारे लगाते हुए दुष्यंत चौटाला व दिग्विजय चौटाला का हर कदम पर साथ देने का भरोसा दिलाया। 
वहीं डॉ. अजय सिंह चौटाला ने दुष्यंत, दिग्विजय को पार्टी से निष्कासित महज एक निजी स्वार्थ बताया और कहा कि विरोधी दुष्यंत दिग्विजय की लोकप्रियता से घबराए हुए हैं, यह निलम्बन नहीं है, क्योंकि पार्टी पर एक एक कार्यकर्ता का हक है। उन्होंने कहा कि अगले कुछ दिनों में वो हरियाणा की यात्रा कर 17 नवम्बर को जींद में लाखों लोगों के सामने जनता से इस लड़ाई में न्याय मांगेंगे। इस अवसर पर पार्टी के कई विधायक व पूर्व विधायक सहित प्रदेश कार्यकारिणी के साथी मौजूद थे। 

Saturday, November 3, 2018

दुष्यंत, दिग्विजय चौटाला के इनेलो से निष्कासित फैसले को कार्यकर्ताओं ने बताया षडयंत्र


भिवानी,3 नवम्बर: इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला और इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला के पार्टी निष्कासन के फैसले के विरोध में आज भिवानी में अनेक जगहों पर इनेलो कार्यकर्ताओं की बैठकें आयोजित हुई। जिसमें जनलोकप्रिय सांसद दुष्यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला के खिलाफ फैसले पर पार्टी कार्यकर्ताओं ने संदेह जताते हुए कहा कि यह फैसला पार्टी सुप्रीमो औम प्रकाश चौटाला का नहीं है यह फैसला केवल मात्र चुनिंदा लोगों का है जो पार्टी को तोडऩा चाहते हैं। उन्होंने कहा कि दुष्यंत और दिग्विजय  चौटाला के लिए अब खाप प्रधानों के साथ-साथ पार्षदो, पूर्व पार्षदों, सरपंचों व बीडीसी सदस्यों के साथ साथ विभिन्न समाज की समितियों से समर्थन मांगा जाऐगा। वहीं 5 नवम्बर को बड़ी संख्या में दिल्ली के 18 जनपथ पर पहुंचकर दुष्यंत व दिग्विजय के हाथ मजबूत किए जाऐंगे। भिवानी के देवीलाल सदन, गांव धनाना, हलका लोहारू, बवानीेखेड़ा, हलका तोशाम में अनेक कार्यकर्ताओं ने इस फैसले विरोध में बैठकें आयोजित की और दुष्यंत, दिग्विजय के खिलाफ पार्टी निष्कासन को षडयंत्र बताया। भिवानी में जहां पूर्व चेयरमैन रामचंद्र कोटिया, पूर्व चेयरमैन प्रेम धनाना, डीएसपी होश्यार सिंह, पप्पल ठाकुर, डा. विजय सांगवान मंदौला, डा. दिनेश सनसनवाल, राजू मेहरा, औमधारा श्योराण प्रदेश उपाध्यक्ष, जितेंद्र शर्मा धारेडू, बाली शर्मा धारेडू, रामफल फौजी, पार्षद सुशीला पूनिया, पार्षद मदन लाल जूसवाला, सुरेंद्र पूनिया टीटीई,  रामफल जाखड़ चेयरमैन, दिनेश नम्बरदार, सचिन जताई, सेठी धनाना, विरेंद्र वाल्मीकि, मनमोहन भुरटाना, कृष्ण मित्ताथल,  शकुंतला परमार, वीना सारसर, अजीत बड़ेसरा, ईकबाल सहरावत, दीपक सिवाड़ा, दीपक रिवाड़ीखेड़ा, बिटटू शर्मा, राम सिंह वैद्य,पवन फौजी तिगड़ाना, अनिल मोटू,  जितेंद्र रिवाड़ीखेड़ा, रूपेश धानक, विजय मित्ताथल, नरेंद्र मित्ताथल, दयानंद मित्ताथल, प्रदीप मित्ताथल,मंदीप सुई, विक्रम बड़ेसरा, बलवंत औरंगनगर, मैनपाल नम्बरदार, विक्रम धनाना, विकास बुडानिया, दयाकिशन बूरा,  भौम सिंह, सतपाल सरपंच घुसकानी, सतबीर घुसकानी, दीपक वाल्मीकि, महेंद्रनम्बरदार, लीला डोहकी, सुरेश ठेकेदार, धीरा शर्मा मुण्ढाल, रामकिशन काजल, सुभाष धानक खरक, अशेाक धानक, जितेंद्र तंवर, अशोक बाली शर्मा, आसू वाल्मीकि, रमेश भौरिया, प्रदीप गोयल, कमलजीत यादव, माईराम खटीक, प्रमोद जोगी आदि भिवानी में वहीं तोशाम में पार्षद सुलोचना पोटलिया, युवा नेता राजेश भारद्वाज, रमेश चेयरमैन, कृष्ण वर्मा प्रवक्ता, नरेश रापडिय़ा, जैना शर्मा, हरीश तोशाम, सीना पायल, सुनील पटवारी, डा. जयबीर बूरा, रण सिंह सिहाग, दल सिंह पंघाल, सुभाष रंगा, ओमी बापोड़ा, सरपंच औम प्रकाश कैरू, अधिवक्ता सुमित श्योराण, सत्यवान शर्मा बीडीसी, पूर्व चेयरमैन भूपेंद्र बौंद, छतरपाल बीड़ीसी, कुलदीप पटवारी, सोमबीर तोशाम, सोमबीर ढाणी माहू, नवनीत रापडिय़ा, कृ ष्ण सरपंच, गुलाब सैनी, राज कुमार जांगड़ा, संदीप थिलोड़, संदीप बापेाड़ा, जय ङ्क्षसह ढाणी माहू, विनोद गोयत, उमेद सरपंच, सुनील बिड़ोला, सुखबीर सण्डवा, अमन सरल, विरेंद्र पडग़ढ़, आस ढाडम, बलजीत पोहकरवास, राजा अत्री, मुखत्यार पाथरवाली, उमेद भैरा, टोनी सांगवान, गोलू मलिक, टोनी सांगवान, रविकांत जांगड़ा, मनोज खानक, रमेश जटासरा ने दुष्यंत, दिग्विजय का समर्थन किया वहीं लोहारू में वरिष्ठ इनेलो नेता विजय गोठड़ा, वजीर मान, वेदपाल चैहड़, सुरेंद्र राठी, नरवेंद्र धोलिया, सुरेश गुडा, मनोज बेडवाल, अधिवक्ता देवेंद्र नकीपुर, राजेश आर्य, गौरव चौधरी, धु्रव सांगवान, पार्षद अनिल गोकुलपुरा, दिनेश सिहाग, अमित सिधन्वा, हिम्मत जावला, प्रदीप बिधनोई, वजीर खरकड़ी, अनिल फरटिया, सुरेश कुडल, दीपक पंघाल, विरेंद्र ढाणी लक्ष्मण, अधिवक्ता दिलबाग ङ्क्षसह, सुल्तान सिंह, गौरव चौधरी, संजीव काकड़ोली, अशोक सिहाग, सहित अनेक लोगों ने दुष्यंत व दिग्विजय का समर्थन करते हुए इस फैसले को षडयंत्र करार दिया।  

Friday, November 2, 2018



जल्द किसानों को मुआवजा नहीं दने पर विधानसभा का आगामी सत्र नहीं चलने देंगे- अभय चौटाला   


अम्बाला, 2 नवम्बर: नेता विपक्ष अभय सिंह चौटाला ने इनेलो-बसपा कार्यकर्ता सम्मेलन अम्बाला में सरकार को चेताते हुए कहा कि अगर सरकार जल्द ही बे-मौसमी बारिश से बर्बाद फसलों मुआवजा नहीं देती तो इनेलो आगामी विधानसभा सत्र नहीं चलने देंगे। उन्होंने कहा कि सरकार ने मौसम की मार से हुए किसानों के नुकसान की आज तक न तो गिरदावरी करवाई है और न ही खराबे का अनुमान जारी किया है। नेता विपक्ष ने मांग की कि किसान को कम से कम 25 हजार रुपए प्रति एकड़ के हिसाब से खराबा मिलना चाहिए। यदि सरकार ऐसा नहीं करती तो इनेलो सरकार द्वारा बुलाए जाने वाले एक दिन के विधानसभा सत्र को नहीं चलने देगी। नेता विपक्ष ने यह भी कहा कि प्रदेश की जनता कांग्रेस भ्रष्टाचार सरकार से तंग आ चुकी थी और तीसरा मोर्चों ने होने के कारण लोगों को मजूबरी में भाजपा को वोट देना पड़ा। लेकिन अब देश में बहन मायावती के नेतृत्व में तीसरे मोर्चाे का गठन हो चुका है। देश व प्रदेश की जनता भ्रष्टाचारियों और झूठे वायदे कर वोट लेने वालों को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि देश में आने वाली सरकार तीसरे मोर्चों की होगी और बहन जी देश की प्रधानमंत्री होंगी। वहीं प्रदेश में इनेलो-बसपा गठबंधन इस बार 1987 विधानसभा को दोहराएगा और पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगा।
नेता विपक्ष ने कांग्रेस व भाजपा पर इनेलो को तोड़ने के लिए साजिश रचने का आरोप लगाते हुए दोहराया कि इनेलो प्रदेश के हितों की लड़ाई लडऩे के लिए वचनबद्ध है। किसान के खेत को पानी मिले उसके लिए एसवाईएल नहर के निर्माण के लिए फिर से आंदोलन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला हरियाणा के हक में आए दो साल का वक्त हो चला है लेकिन ये खेदजनक है कि भाजपा भी कांग्रेस की भांति नहर निर्माण के मुद्दे पर राजनीति कर रही हैं। प्रदेश सरकार ने दादूपुर नलवी और मेवात कैनाल के निर्माण के लिए भी कोई पहल नहीं की जो दर्शाती है कि इस सरकार का जनता व किसानों की समस्याओं से कोई वास्ता नहीं है। भाजपा ने चुनाव से पूर्व झूठे वादे कर हर वर्ग को गुमराह करने का काम किया है। उन्होंने ओम प्रकाश चौटाला द्वारा प्रदेश की जनता से किए गए वादों को दोहराते हुए कहा कि इनेलो-बसपा गठबंधन की सरकार बनने पर किसान, गरीब व छोटे दुकानदारों के ऋण माफ किए जाऐगे साथ ही किसानों के ट्यूवल के बिजली बिल समाप्त और घरों में बिजली के बिल आधे कर दिए जाएगे। गरीब परिवार की बेटियों की शादी के लिए 5 लाख रुपए कन्यादान की राशि दी जाएगी और बुढ़ापा पैंशन 3000 हजार प्रति माह की जाएगी। नेता विपक्ष ने यह भी कहा कि प्रदेश के हर एक घर में एक शिक्षित युवा को सरकारी नौकरी दी जाएगी वहीं अगर को रोजगार से चुक गया तो उन युवाओं को 15 हजार बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा।
बसपा प्रदेशाध्यक्ष प्रकाश भारती ने कहा कि इनेलो-बसपा गठबंधन अटूट है। उन्होंने कांग्रेस द्वारा फैलाई जा रही अफवाहों को भ्रामक और राजनीति से प्ररित बताया। भारती ने यह भी कहा कि बसपा सुप्रीमो बहन मायावती ने पिछले दिनों प्रैसवार्ता में स्पष्ट कर चुकी है कि कांग्रेस से किसी भी तरह का गठबंधन नहीं होगा। बसपा पार्टी तीसरे मोर्चे को मजबूत करने के लिए केवल क्षेत्रीय दलों से ही समझौता करेगी। हरियाणा में इनेलो-बसपा गठबंधन को तोड़ा नहीं जा सकता और यह राजनैतिक समझौता न होकर बहन-भाई का बंधन है। इस दौरान बसपा प्रदेशाध्यक्ष प्रकाश भारती, पूर्व विधायक राजबीर बराड़ा, इनेलो जिलाध्यक्ष शीशपाल जंधेड़ी, जगमाल रौलां, मक्खन सिंह लबाणा व पार्टी प्रवक्ता प्रवीण आत्रेय सहित सैकड़ों गठबंधन कार्यकर्ता मौजूद थे।
अनुशासन समिति के समक्ष हाजिर होने के इंतजार में हूं- दुष्यंत चौटाला 


हांसी, 2 नवंबर: मेरे निलंबन के बाद लगाए गए आरोपों के पक्ष में मैंने अनुशासन समिति से अनुशासनहीनता के साक्ष्य मांगे थे परन्तु 25 अक्टूबर बीत जाने के बाद भी आज तक न तो अनुशासन समिति के समक्ष पेश होने का न तो कोई संदेश मेरे पास आया है और न ही कोई साक्ष्य मुझे उपलब्ध करवाए हैं। मैंने अपनी बात इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला से मिलकर उनके समक्ष रख दी है। यदि मैं दोषी हूं तो जो सजा मुझे मिलेगी, वह मुझे मंजूर है। जो फैसला चौटाला साहब को लेना है, उस फैसले को मैं डा. अजय सिंह चौटाला के पास लेकर जाऊंगा और इसके बाद जो आदेश डा. अजय सिंह चौटाला जी देंगे, वह आप सब कार्यकर्ताओं के समक्ष रखूंगा। अंतिम फैसला आपको लेना है। यह बात हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने कही। वे यहां जाट धर्मशाला में कार्यकर्ताओं से मिले और उनकी समस्याएं सुनी। जाट धर्मशाला में दुष्यंत की आने की सूचना पाकर अधिकांश पार्टी पदाधिकारी व कार्यकर्ता और भारी संख्या में युवा पहुंचे और गुलाब के फूल बरसा कर उनका स्वागत किया। युवा सांसद ने कहा कि इनेलो स्व. चौधरी देवीलाल लगाया हुआ वटवृक्ष है और उनकी नीतियों पर पार्टी चल रही है। उन्होंने कहा कि मैं घबराने वाला, निराश होने वाला या थकने वाला नहीं हूं चौ. देवीलाल की नीतियों की आगे तक तक ले जाएंगे। उन्होंने कहा कि जननायक स्व. चौ. देवीलाल, लोहपुरूष ओमप्रकाश चौटाला और डा. अजय सिंह चौटाला ने संघर्ष करना सीखा है। इस संघर्ष के बूते पर पार्टी को तोडऩे का प्रयास करने वाली ताकतों को मुंह तोड़ जवाब देंगे। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि आपके जोश का मैं कायल हूं और आपकी बेजोड़ निष्ठा और आपका हौसला मेरी ताकत है। उन्होंने कहा कि जोश में होश नहीं खोना है और इस जोश को संभाल कर रखना है ताकि तुफान भी इसके आगे नतमस्तक हो जाए। समय आने पर इस जोश को काम में लेना है और इसी मैदान को दोगुनी ताकत के साथ फिर से संभालना है। 
दुष्यंत चौटाला ने कहा कि एकता बनाए रखो और संगठित होकर संघर्ष करो। उन्होंने कहा कि संघर्ष करने वाले के लिए रास्ता अपने आप बनता चला जाता है। बैठक में राजेंद्र लितानी, विधायक अनूप धानक, शीला भ्याण, कर्ण सिंह दैप्पल, धारा सिंह मैंहदा, संतोष पानू, सेवापति पानू, राजीव शर्मा, कुकू सरदार, सुशील उगालन,  रेनू मक्कड़, रविंद्र सैनी, इंद्र फौजी, सुरेंद्र फौजी, जयवीर सिहाग, शिव कुमार कुलाना, महेंद्र बिडलाप, वीना चौधरी, सोनू बिडलान, रणबीर कुंभा, अनूप बूरा, नवीन ठाकुर, पार्षद प्रवीन ऐलावादी, डा. राजू शर्मा, विनोद जांगड़ा, सतपाल पानू, मास्टर थंबूराम सिसाय, छन्नो देवी, सहदेव यादव, संजीत पंघाल, नीलम यादव, नरेश सिहाग, लोकेश माजरा, नंदलाल सरपंच, देवेंद्र हाजमपुर, जयसिंह सरपंच, पवन मलिक, गौरव वासुदेवा, कपिल टुटेजा, संजय रामपुरा, राजकुमार बामल, किताब कुंभा, मोहित बामल, जयभगवान,संदीप सिंगल, अतुल मलिक, साहिल मलिक, चरण सिंह बामल,  कृष्ण बूरा घिराय, सुनील दूहन, सजन गोयल सहित भारी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे। 
अजय चौटाला की कर्मभूमि पर भावुक हो नैना चौटाला हरी चुनरी की चौपाल में बोली


ताऊ देवीलाल के जमाने से जिंदाबाद के नारे लगा रहे हैं, तो क्या सभी अनुशासनहीन थे- नैना चौटाला
जिंदाबाद के नारे पार्टी कार्यकर्ताओं ने लगाए, तो दुष्यंत व दिग्विजय अनुशासनहीन कैसे हो गए-
कुछ लोग अजय सिंह चौटाला के परिवार को मक्खी की तरह पार्टी से बाहर निकालना चाहते हैं- नैना चौटाला 
पार्टी से दूर करने की साजिश पिछले दो वर्षों के रची जा रही थी-नैना चौटाला
कुछ लोग नोटिस के माध्यम से दुष्यंत-दिग्विजय को दबाना चाहते हैं। 
ओमप्रकाश चौटाला और संगठन को मजबूत करने के लिए सब मिल कर काम करें-नैना चौटाला 


झोंझूकलां: पार्टी के कुछ लोग अजय सिंह चौटाला के परिवार को मक्खी की तरह पार्टी से निकाल कर बाहर फैंकना चाहते हैं और इसके लिए उन लोगों ने पिछले दो वर्षों से साजिश रचनी शुरू कर दी थी। अजय सिंह चौटाला ने पार्टी संठगन को मजबूत करने के लिए 40 वर्ष झौंक दिए। उन्होंने रायमलिकपुर से लेकर चंडीगढ़ तक पैदल चल कर गांव-गांव जाकर लोगों को  पार्टी से जोड़ा है और पार्टी को नया जोश और ताकत दी। हरियाणा की जनता उनकी मेहनत और पार्टी के प्रति समर्पण को भुला नहीं सकती और ऐसे मंसूबे रखने वालों के षड्यंत्र को कभी कामयाब नहीं होने देगी। यह बात डबवाली से इनेलो विधायिका नैना सिंह चौटाला ने झोंझू कलां के स्टेडियम में आयोजित हरी चुनरी की चौपाल में उमड़ी महिलाओं की भीड़ को संबोधित करते हुए कही। नैना चौटाला का यहां पहुंचने पर जोरदार स्वागत किया गया। डा. अजय सिंह चौटाला की कर्मभूमि बाढ़ला हलके के झोंझू कला में पहुंची नैना चौटाला अपने संबोधन के दौरान कई बार भावुक नजर आई। उन्होंने दुष्यंत चौटाला को दिए नोटिस के संदर्भ में कई सवाल जनता के समक्ष रखे। उन्होंने कहा कि जनता द्वारा चुने गए सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में जनता की आवाज उठाई, क्या देश की सबसे बड़ी पंचायत में जनता की आवाज बूलंद करना अनुशासनहीनता है। दुष्यंत और दिग्विजय ने पार्टी को मजबूत करने के लिए लाखों युवाओं को पार्टी से जोडऩे और छात्र संघ के चुनाव बहाल करवाने के लिए दिन रात काम किया। नैना चौटाला ने कहा कि युवा शक्ति को पार्टी जोडऩा और छात्रों के हितों के लिए संघर्ष करनाअनुशासनहीनता है। उन्होंने गोहाना रैली में हुई नारेबाजी का जिक्र भी किया और सवाल पूछा कि क्या अपनी पार्टी और नेता के जिंदाबाद के नारे लगाना अनुशासनहीता है, नारे लगाना ही अनुशासनहीनता है तो फिर यह परम्परा तो ताऊ जी के जमाने से चली आ रही है और हर कार्यकर्ता ने इसे आगे बढ़ाया है। फिर दुष्यंत व दिग्विजय ने ऐसा अलग क्या कर दिया कि उन्हें निलंबन का नोटिस थमा दिया गया।  नैना सिंह चौटाला ने कहा कि कुछ लोग इस प्रकार के नोटिस दिलवा कर उन्हें दबाना चाहते हैं। डबवाली की विधायिका ने कहा कि जनता की आवाज परमात्मा की आवाज होती है।
नैना चौटाला ने कहा कि संकट की इस घड़ी में प्रदेश की जनता जो अपना प्यार समर्थन और आर्शीवाद दे रही है, उसके लिए मैं हमेशा आपकी कर्जदार रहूंगी। उन्होंने जब कहा कि वर्ष 2013 में जब पार्टी सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला और डा. अजय सिंह चौटाला के जेल जाने की घटना ने उन्हें हिला कर रख दिया था। इतना कहते हुए नैना चौटाला के आंसू छलक आए। उन्होंने कहा कि उस घटना से ज्यादा आहत मैं अब पूरी तरह से अनुशासित और पार्टी के लिए दिन-रात एक करने वाले दुष्यंत और दिग्विजय को पार्टी से निकालने का नोटिस बारे पता चला तो वह अंदर तक टूट गई। आंखों से अश्रुधारा फिर बह निकली और वह बोली कि वह इस घटना से बेहत आहत हैं। उन्होंने हरी चुनरी की चौपाल में उपस्थित जनसैलाब से समर्थन मांगते हुए कहा कि आप आप अपना प्यार व समर्थन दुष्यंत व दिग्विजय चौटाला के साथ बनाए रखें ताकि इनेलो पार्टी और संगठन को और मजबूती मिले। उन्होंने कहा कि महिलाएं लोकतंत्र में अपनी ताकत को कम न आंके और अपनी मनचाही इनेलो की सरकार बनाने के लिए दिन-रात संगठित होकर मेहतन करें और पार्टी सुप्रीमो औमप्रकाश चौटाला को मजबूती प्रदान करें। नैना चौटाला ने कहा कि चौ. ओमप्रकाश चौटाला जी संगठन और परिवार के मुखिया हैं, उनका नेतृत्व और दिशा-निर्देश हमें सदा मंजूर है और हमेशा रहेगा। उन्होंने कहा कि इनेलो पार्टी ताऊ स्व. देवीलाल जी का लगाया हुआ एक वटवृक्ष है और कुछ लोग पार्टी को दीमक की तरह खा कर खोखला करना चाहते हैं, उनके मंसूबे प्रदेश की जनता किसी भी सूरत में पूरे नहीं होने देगी। 
इस अवसर पर कार्यक्रम प्रभारी राजेन्द्र लितानी, शीला भ्यान, विधायक राजदीप फौगाट, विधायक अनूप धानक, पुर्व विधायक धर्मपाल ओबरा, नरेश द्वारका, अंतराष्ट्रीय महिला पहलवान बबीता फौगाट, राजेश सरपंच झोझू, ओमधारा श्योराण, लक्ष्मी बलौदा, सज्जन बलाली, बीनु सांगवान, डा. विजय सांगवान मंदौला, रामफल कादमा, विजय गोठड़ा, वज़ीर मान, सुरेन्द्र राठी, संतरा झोझू, तारावती मंदौला, संदीप काकडौली, विजय इनसो, शकुन्तला  द्वारका, रिशाल धनासरी, जिला पार्षद धनपति समसपुर, सूरज बेनीवाल, बबलू चौधरी, सोनु कान्हडा, तेजबीर काकडौली, सत्येन्द्र दातौली, भुप मांढी, सतपाल आर्य, औमप्रकाश यादव, कैलाश शर्मा, भूपेन्द्र खेड़ी, दिनेश गोठड़ा, धुर्व सांगवान, रामनिवास मिर्च, कुलदीप सरपंच, रविन्द्र, संजीव चरखी, आनंद बडराई, होशियार सिंह कादमा, राजेश अटेला, रमेश लांबा, आनन्द महराणा, वीरेंद्र पप्पू, रविन्द्र खेड़ी बुरा, सूरजभान कलियाणा, धर्मबीर पिचौपा, राजेन्द्र हुई, सोहन रूदडोल, विजय गोपी, जे पी छिल्लर, प्रदीप छिल्लर, अत्तर सिंह पालडी, नरेश बिगोवा, सुरेश इमलोटा, देवेन्द्र बिगोवा इत्यादि उपस्थिति थे।
प्रकाश जाखड़ को राजस्थान इनेलो का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया गया 


चंडीगढ़: इनेलो सुप्रीमो चौधरी ओम प्रकाश चौटाला ने प्रकाश जाखड़ को राजस्थान इनेलो का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है। जाखड़ की नियुक्ति की औपचारिक घोषणा इनेलो राष्ट्रीय महासचिव आरएस चौधरी ने की। प्रकाश जाखड़ बाडमेर जिला के कुडला गांव से हैं और दो दशक से इनेलो पार्टी से जुड़े हुए है। उन्होंने राजस्थान में पार्टी के प्रचार और प्रसार में अहम् भूमिका निभाई है।
जाखड़ मध्यमवर्गीय किसान परिवार से आते हैं। गैर-राजनीतिक पृष्ठभूमि होने के वावजूद जननायक देवीलाल की नीतियों में विश्वास रखते हुए उन्होंने ओमप्रकाश चौटाला के नेतृत्व में पार्टी के लिए संघर्ष किया। प्रकाश सिंह जाखड़ अखिल भारतवर्षी जाट महासभा राजस्थान के अध्यक्ष रहे हैं। राजस्थान इनेलो का अध्यक्ष नियुक्त किए जाने पर उन्होंने इनेलो सुप्रीमो का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि वह जननायक चौधरी देवीलाल की नीतियों का अनुसरण करते हुए निष्पक्ष तौर पर व लग्न से इनेलो पार्टी के जनाधार को बढ़ाने के लिए काम करते रहेंगे।
इनेलो को कमजोर करने का प्रयास कर रही हैं कुछ ताकतें- अभय चौटाला 


कुरुक्षेत्र: जिन ताकतों ने चौ. देवीलाल तथा चौ. ओम प्रकाश चौटाला को कमजोर करने का काम किया था, आज फिर वही ताकतें इनेलो को कमजोर करने का प्रयास कर रही हैं, लेकिन पार्टी के अनुशासित व समर्पित कार्यकर्ता इन ताकतों के मंसूबों को कभी सफल नहीं होने देंगे। यह विचार हरियाणा के नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला ने स्थानीय पंजाबी धर्मशाला में इनेलो व बसपा कार्यकर्ताओं की जिला स्तरीय विशाल बैठक को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। इस बैठक को इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा, बसपा के प्रदेशाध्यक्ष प्रकाश भारती, पूर्व मंत्री एवं पिहोवा के विधायक जसविन्द्र सिंह संधु, इनेलो नेता पूर्ण चन्द बडशामी, इनेलो जिला प्रधान कुलदीप सिंह मुलतानी, बसपा जिला प्रधान मान सिंह, इनेलो हलका थानेसर प्रधान रणबीर सिंह बूरा, लाडवा हलका प्रधान सुरेश सैनी, पिहोवा हलका प्रधान करन सिंह इशहाक, शाहाबाद हलका प्रधान अमनदीप सिंह कांबोज, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य मायाराम चन्द्रभानपुरा, शहरी प्रधान विवेक मेहता, प्रदेश प्रवक्ता प्रवीन आत्रोय, प्रो. संतोष दहिया, जोगध्यान, कलावती, सुरजीत कौर, हलका प्रवक्ता सुरेन्द्र सैनी, व्यापार प्रकोष्ठ के जिला प्रधान नीतिन गोयल बंटू, व्यापारी नेता नलिन गोयल, मास्टर हरि सिंह पांचाल, चन्द्रभान बाल्मिकी, अजराना के सरपंच संदीप बाल्मिकी, बलजिन्द्र सिंह बब्बू, जोगध्यान, सुभाष मिर्जापुर सहित गठबंधन के अनेक नेताओं ने संबोधित किया। बैठक में पहुंचने पर बसपा नेताओं ने अभय चौटाला को नीली पगड़ी तथा इनेलो नेताओं ने प्रकाश भारती को हरी पगड़ी सम्मान स्वरूप भेेंट की। प्रवीन कश्यप के नेतृत्व में कश्यप समाज ने भी अभय चौटाला को सम्मानित किया। अनेक युवाओं ने इनेलो का दामन थामा। बैठक में विशाल उपस्थिति देखकर अभय चौटाला सहित गठबंधन के नेता गद्गद नजर आए। बैठक में अनेक युवा ढ़ोल ढमाकों के साथ शामिल हुए। महिलाएं भी भारी संख्या में उपस्थि थी। अभय चौटाला ने अपने संबोधन में कहा कि प्रदेश में आने वाले चुनावों में 1987 का इतिहास दोहराया जाएगा। गठबंधन विधानसभा की सभी 90 सीटों पर तथा लोकसभा की सभी 10 सीटों पर विजय प्राप्त करेगा। देश की प्रधानमंत्री मायावती बनेंगी और प्रदेश में ओमप्रकाश चौटाला मुख्यमंत्री होंगे। उन्होंने कहा कि गठबंधन होने से भाजपा और कांग्रेस को काफी तकलीफ हुई। उन्होंने कहा कि जिन ताकतों ने 1987 में बनी देवीलाल की सरकार को गिराया था और षडयंत्र रचके ओमप्रकाश चौटाला को जेल भिजवाया आज फिर वही ताकतें सक्रिय होकर इनेलो को तोडऩे का प्रयास कर रही हैं और पार्टी की कुछ कमजोर कड़ी ऐसी ताकतों के संपर्क में हैं, लेकिन इनेलो के समर्पित व कर्मठ कार्यकर्ता इन ताकतों के मंसूबे कभी सफल नहीं होने देंगे। अभय चौटाला ने कांग्रेस और भाजपा को आड़े हाथों लेतेे हुए कहा कि इन दोनों दलों ने एसवाईएल के पानी को राजनीति के भेंट चढ़ा दिया है। 1966 से 76 तक प्रदेश में कांग्रेस के राज में हरियाणा के हिस्से का पानी लाने के लिए कोई प्रयास नहीं किया गया। चौ. देवीलाल और ओमप्रकाश चौटाला के शासन में ही एसवाईएल नहर बनी। सुप्रीम कोर्ट से हरियाणा के हक में फैसला होने के बावजूद भी केन्द्र व प्रदेश सरकार ने एसवाईएल में पानी लाने के लिए कोई कदम नहीं उठाया। 2 वर्ष से मुख्यमंत्री हरियाणा के सर्वदलीय नेताओं को एसवाईएल के मुद्दे पर प्रधानमंत्री से मिलने का समय नहीं दिला पाए हैं। हरियाणा सरकार ने तो एसवाईएल में पानी लाने की बजाए इस इलाके की दादुपुर नलवी परियोजना को ही रद्द कर दिया। अभय चौटाला ने कहा कि एसवाईएल, दादुपुर नलवी नहर तथा मेवात कैनाल के मुद्दों को लेकर 15 नवंबर के पश्चात गठबंधन की प्रदेश स्तरीय बैठक में नये सिरे से आंदोलन चलाने का फैसला लिया जाएगा। बसपा के प्रदेशाध्यक्ष प्रकाश भारती ने अपने संबोधन में कहा कि प्रदेश में गठबंधन की जिला स्तरीय बैठकें रैली का रूप ले रही हैं। कार्यकर्ताओं की आवाज पर दोनों दलों का गठबंधन हुआ है। गठबंधन की शुरूआत अभय चौटाला और अशोक अरोड़ा ने की थी। कांगे्रस गठबंधन को लेकर अनेक प्रकार की अफवाहें फैला रही है। कांग्र्रेस और भाजपा में कोई फर्क नहीं है। दोनों दलों का गठबंधन अटूट है। इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने आरोप लगाया कि भाजपा और कांग्रेस दोनों मिलकर इनेलो को कमजोर करने का षडयंत्र रच रहे हैं। पार्टी पूरी तरह से ओमप्रकाश चौटाला के साथ है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने षडयंत्र के तहत चौटाला तथा पार्टी के अन्य नेताओं को जेल भिजवाया। जो लोग कहते थे कि इनेलो खत्म हो जाएगा। आज वही लोग हासिये पर हैं और कार्यकर्ताओं की बदौलत इनेलो और अधिक मजबूत हुआ है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नमी के नाम पर किसानी की धान की फसल को लूटा जा रहा है। सरकार हर मोर्चे पर विफल है। पिहोवा के विधायक एवं पूर्व मंत्री जसविन्द्र सिंह संधु ने कहा कि गोहाना की रैली में कुछ लोगों ने अनुशासनहीनता करके अभय चौटाला को उकसाने का प्रयास किया लेकिन अभय चौटाला ने संयम बरता। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता और इनेलो पूरी तरह से अभय चौटाला के साथ है। गठबंधन की इस जिला स्तरीय बैठक में इतना अधिक जनसैलाब उमड़ा कि बैठक रैली में तबदील हो गई। आयोजकों की उम्मीद से ज्यादा कार्यकर्ता इस बैठक में शामिल हुए। भारी संख्या में युवा व महिलाएं भी बैठक में उपस्थित थी, बैठक में युवा ढ़ोल-नगाडों की थाप नाचते-गाते शामिल हुए तो महिलाएं गीत गाती हुई आई। बैठक में उमड़े जनसैलाब को देखकर अभय चौटाला व गठबंधन के अन्य नेता काफी खुश नजर आए। रैली में पूर्व विधायक नरेन्द्र सांगवान, मामूराम गोंदर, प्रदेश प्रवक्ता प्रवीण आत्रेय, बसपा नेता डॉ. बलदेव, गुरमीत सिंह, हंसराज कश्यप, बसपा लोकसभा क्षेत्र प्रभारी सूरजभान नरवाल, बसपा नेत्री शशि सैनी, युवा इनेलो नेता विनोद राणा, प्रदेश महासचिव बूटा सिंह लुखी, तून खान, शंकुतला भट्टी, मास्टर हरि सिंह पांचाल, सुलतान ब्राह्मण माजरा, प्रवीण कश्यप, नगर पार्षद नीतिन भारद्वाज लाली, कुवि के पार्षद नरेन्द्र वर्मा, संदीप टेका, शहरी प्रधान विवेक मेहता, रामस्वरूप चोपड़ा, सतबीर शर्मा, पूर्व पार्षद नरेन्द्र शर्मा निन्दी, पूर्व पार्षद ओमप्रकाश ओपी, मनु जैन, दीपक सिंगला, दीपक फौजी, तरसेम हरियापुर, प्रहलाद शर्मा, विक्रम चक्रपाणी सहित दोनों दलों के अनेक नेता उपस्थित थे।
अभय चौटाला की उपस्थिति में हरियाणा प्रदेश महिला कांग्रेस की सचिव मारथा गुलजार, ब्लॉक समिति की पूर्व मेंबर अमरजीत कौर सैनी सिंहपुरा, थानेसर के पूर्व यूथ कांग्रेस प्रधान बिंदर बोडला, अमनपाल, मौजी लोहाट, लोकेन्द्र , आशु सिंगला, संजीव मनचंदा, आशीष बागड़ी, रोबिन ओजला, अंकित लौहाट सहित अनेक युवाओं ने इनेलो में शामिल होने की घोषणा की।
एकजुट होकर इनेलो को मजबूती प्रदान करें- पदम जैन 


सिरसा: इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन ने गांव धिंगतानिया, नेजिया, अलीमोहम्मद, चाडीवाल, साहुवाला 2, ताजिया, शेरपुरा, कैरावाली, नहराणा, नारायणखेड़ा सहित लगभग एक दर्जन से अधिक गांवों का दौरा किया। जैन ने दौरे के दौरान ग्रामीण कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों को 4 नवंबर रविवार प्रात : 10 बजे डबवाली रोड़ स्थित महाराजा पैलेस में आयोजित होने वाली जिला स्तरीय इनेलो बसपा कार्यकर्ताओं की बैठक में शामिल होने का न्यौता दिया। जिलाध्यक्ष ने कहा कि सभी कार्यकर्ता इस बैठक में ज्यादा से ज्यादा सख्यां में पहुँचकर चौ० ओम प्रकाश चौटाला को मजबूत करे। उन्होंने कहा कि इनेलो पहले भी मजबूत थी और आगे भी रहेगी। जैन ने कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि वे एकजुट होकर इनेलो को मजबूती प्रदान करें तथा पार्टी का प्रचार क रें। जैन ने कहा कि इस मिटिंग में काफी सख्यां में पहुँचकर जहां विपक्ष की बोलती बंद करेंगें वही चौ० ओम प्रकाश चौटाला के नेतृव पर अपनी मोहर लगाएगें उन्होंने कहा कि इनेलो कार्यकर्ताओं में इस बैठक को लेकर जबरदस्त उत्साह है। इस बैठक को नेता प्रतिपक्ष चौ० अभय सिंह चौटाला व बसपा के प्रकाश भारती संबोधित करेगें। इस मौके सिरसा हलका अध्यक्ष गुरविन्द्र्र गिल, नरेश साहरण, राजेन्द्र जोधकां, कीर्ति खलेरी, सतपाल कुसुम्बी, देवराज मोयल आदि मौजूद थे।