Thursday, October 11, 2018

12 को यूनिवर्सिटी व जिले के मुख्य कॉलेजों में सभी संगठन मिलकर करेंगे विरोध प्रदर्शन: दिगिवजय चौटाला


भिवानी, 11 अक्टूबर: इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिगिवजय चौटाला ने प्रदेश के अंदर अप्रत्यक्ष चुनाव को अस्वीकार करते हुए कहा कि एबीवीपी को छोडक़र सभी छात्र संगठन एक साथ आ चुके हैं। 12 अक्तूबर को सभी छात्र संगठन प्रत्यक्ष छात्र संघ चुनाव की मांग को लेकर हरियाणा प्रदेश की सभी यूनिवर्सिटियों व सभी जिलों के मुख्य कॉलेजों पर एकत्रित होकर विरोध प्रदर्शन करेंगे। इनसो अध्यक्ष ने कहा कि एक बार फिर से भाजपा अपनी जुबां पर नहीं रही और प्रदेश के अंदर पूंजीपति प्रणाली को बढ़ावा देते हुए अप्रत्यक्ष छात्र संघ चुनाव करने को तैयार हुए जो इनसो, एसएफआई सहित सभी छात्र संगठनों को मंजूर नहीं हुए। दिगिवजय ने इनसो कार्यकर्ताओं को सख्त हिदायत देते हुए कहा कि इनसो के आफिसीयल कैंडिडेट के तौर पर किसी भी सीआर या कॉलेज, यूनिवर्सिटी के पद पर प्रत्याशी घोषणा ना करे और ना ही आफिसीयल कैंडीडेट के तौर पर कि सी का फार्म डलवाए। इनसो अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा सरकार गरीब, किसान, दलित, पिछड़ों के बच्चों के हकों को दबाने और छात्रों में भी पूंजीपति, पूंजीवाद प्रथा को शुरू करने के लिए अप्रत्यक्ष छात्र संघ चुनाव करवाना चाहती है। सरकार के इस फैसले से प्रदेश की राजनीति में अपनी पहली पारी शुरू करने और छात्रों को मूलभूत सुविधा के साथ पढ़ाई करने के अपने अधिकार से वंचित होना पड़ रहा है। जहां सरकार एक तरफ तो यह कहती है कि भविष्य में मेयर, चेयरमैन, नगरपालिका प्रधान के चुनाव सीधे तौर पर करवाने की सोच रही है वहीं सरकार प्रदेश के छात्रों के साथ खिलवाड़ करके आरएसएस की विचारधारा को छात्रों पर थोंपना चाहती है इस फैसले के खिलाफ प्रदेश में छात्र नाराज हैं और अपने अधिकार को पाने के लिए प्रत्यक्ष छात्र संघ चुना चाहता है। उनहोंने कहा कि जब देश के अन्य राज्यों में प्रत्यक्ष छात्र संघ चुनाव हो सकते हैं तो फिर हरियाणा में क्यों नहीं है। चौटाला ने कहा कि एक सोची समझी साजिश के तहत प्रदेश में अप्रत्यक्ष छात्र संघ चुनाव करवाने का मंसूबा भाजपा पेश कर रही है जिसे पूरा नहीं होने दिया जाएगा। 17 अक्तूबर को जहां चुनाव का बहिष्कार किया जाएगा वहीं 12 को प्रदर्शन कर सरकार को छात्रों के विरोध का एक छोटा सा उदाहरण पेश किया जाएगा। 

No comments:

Post a Comment