Saturday, September 8, 2018

सिरसा में मिला हरियाणा बंद को व्यापक समर्थन


सिरसा: इनेलो बसपा द्वारा हरियाणा बंद के आह्वान के अंतर्गत आज जिला सिरसा में बंद को व्यापक समर्थन मिला ओर सभी व्यापारियों ने अपने-२ प्रतिष्ठान स्वेच्छा से बंद रखकर भाजपा सरकार के विरूध अपना आक्रोश प्रकट किया। प्रदेश में बढ़ते अपराध, व्यापारियों पर जीएसटी व नोटबंदी, युवाओं पर बेरोजगारी, कर्मचारियों से किए गए झूठे वायदों, महिलाओं के प्रति बढ़ती आपराधिक घटनाओं और किसानों के लिए एसवाईएल नहर के पानी की मांग को लेकर इनेलो बसपा गठबंधन की ओर से किए गए हरियाणा बंद को शनिवार को सिरसा में व्यापक समर्थन मिला और शहरभर के बाजारों के दुकानदारों ने अपने अपने प्रतिष्ठान व दुकानें बंद रखकर गठबंधन की आवाज को बुलंद किया।
सिरसा में इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन व सिरसा के विधायक मक्खनलाल सिंगला के नेतृत्व में गठबंधन की ओर से किए गए हरियाणा बंद को व्यापारियों व दुकानदारों की ओर से खासा समर्थन मिला जो सीधे तौर पर भाजपा की गलत नीतियों के प्रति रोष के रूप में देखा गया। शनिवार सुबह ही इनेलो बसपा गठबंधन के करीब ७०० पदाधिकारी व कार्यकर्ता अपने अपने निर्धारित जोन में जोन इंचार्जों के मार्गदर्शन में विभिन्न बाजारों में पहुंचे और सभी दुकानदारों और प्रतिष्ठान संचालकों से अपने अपने प्रतिष्ठान बंद रखने का विनयपूर्वक निवेदन किया। इस पर सभी दुकानदारों ने अपनी अपनी दुकानें बंद रखकर जहां एक ओर गठबंधन को अपना समर्थन दिया वहीं भाजपा की गलत नीतियों के खिलाफ अपने इरादे भी जाहिर किए। इनेलो व बसपा गठबंधन के पदाधिकारियों ने जनता भवन, नई अनाजमंडी, डबवाली रोड, रोड़ी बाजार, भगत सिंह चौक, हिसारिया बाजार, बेगू रोड, हिसार रोड, रानियां बाजार, सब्जी मंडी क्षेत्र सहित सभी मु य बाजारों में दुकानदारों से अपनी दुकानें बंद रखने की शांतिप्रिय तरीके से अपील की। इस दौरान सुभाष चौक में इनेलो जिलाध्यक्ष व सिरसा के विधायक मक्खनलाल सिंगला ने मीडिया से मुखातिब होते हुए संयुक्त रूप से सिरसा की तमाम जनता व तमाम व्यापारियों तथा दुकानदारों का बंद का समर्थन करने के लिए आभार व्यक्त किया। दोनों नेताओं ने कहा कि सिरसा की जनता ने सदैव जनहित के मुद्दे पर इनेलो का समर्थन किया है। इनेलो ने करीब दो सालों से नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला के नेतृत्व में एसवाईएल के मुद्दे पर विभिन्न चरणों में जेल भरो आंदोलन, संसद का घेराव, पंजाब से आने वाले वाहनों का चक्का जाम जैसे आंदोलन चलाकर भाजपा की केंद्र सरकार पर एसवाईएल के मुद्दे पर सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय को अमल कराने के लिए अनुरोध किया था मगर भाजपा ने जनभावनाओं को कुचलते हुए इसे रद्दी की टोकरी में डाल दिया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बढ़ती गुंडागर्दी, व्यापारियों से लूटपाट, आए दिन महिलाओं से बलात्कार व किसानों के लिए एसवाईएल के जरूरी मुद्दे पर बंद को मिले समर्थन से यह सिद्ध हुआ है कि प्रदेश की जनता भाजपा शासन में बुरी तरह से दुखी है और आने वाले समय में इसे चलता करने को बैचेन है। 

No comments:

Post a Comment