Friday, August 10, 2018

भाजपा ने प्रदेश को अपने हिस्से का पानी लेने से भी किया मोहताज- अशोक अरोड़ा



फतेहाबादः एसवाईएल पर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय लागू करवाने को लेकर लगातार आंदोलनरत इनेलो-बसपा का जिला स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन जाट धर्मशाला में आयोजित हुआ। आगामी 18 अगस्त को एसवाईएल मामले में हरियाणा बंद की तैयारियों को लेकर हुए इस जिला स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन में पार्टी प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा व बसपा प्रदेशाध्यक्ष प्रकाश भारती ने संयुक्त रूप से बतौर मुख्य वक्ता उपस्थित रहे। अध्यक्षता भारतीय ओलंपिक संघ उपाध्यक्ष कर्ण चौटाला ने की। सम्मेलन को बसपा प्रदेश उपाध्यक्ष नरेन्द्र वर्मा, इनेलो किसाल सैल प्रदेशाध्यक्ष निशान सिंह, बसपा प्रदेश प्रभारी महेश कुमार, विधायक बलवान दौलतपुरिया, प्रो रविन्द्र बलियाला, जिलाध्यक्ष बलविन्द्र कैरों, बसपा जिलाध्यक्ष पीएस फानर, पूर्व विधायक रणसिंह बैनीवाल, राष्ट्रीय सचिव युद्धवीर आर्य, कुलजीत कुलडि़या, मोलूराम रूहलानियां, विद्या रत्ति, सरोज सांगा, सुशीला सर्राफ व बसपा सिरसा लोकसभा प्रभारी मीरा नंदा ने मुख्य रूप से संबोधित किया। कार्यक्रम संचालन गुलाब सूंडा ने किया।
सम्मेलन को संबोधित करते हुए इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने कहा कि हरियाणा को दो नदियों का केवल 35 प्रतिशत पानी मिला है। जो पानी हरियाणा के हिस्से में आया वह भी आज तक नही मिला। सुप्रीमकोर्ट की संवैधानिक पीठ ने हरियाणा के हक में एसवाईएल मामले में 10 नवम्बर 2016 को फैसला दिया था। इस फैसले के अनुसार केंद्र सरकार को नहर का निर्माण करना है लेकिन आज तक प्रदेश सरकार ने केंद्र पर दबाव बनाकर पानी लाने के लिए कोई प्रयास नहीं किया। जिस पर इनेलो-बसपा गठबंधन ने पानी लाने के लिए जेल भरो आंदोलन चलाया, मगर सरकार के कान पर जूं तक न रेंगी। भाजपा ने हालात इस कद्र बिगाड़ दिए हैं कि प्रदेश अपने हिस्से का पानी लेने से भी मोहताज हो गया है। इनेलो-बसपा गठबंधन ने अब हरियाणा सरकार को कुंभकरणी नींद से जगाने के लिए 18 अगस्त को हरियाणा बंद का आहवान किया है। उन्होंने कार्यकर्त्ताओं का आह्वान किया कि वे प्रदेश की जीवन रेखा एसवाईएल का प्रदेश के हक का पानी लाने के लिए पूरी ताकत के साथ इस बंद को सफल बनाएं। युवा नेता कर्ण चौटाला ने अपने संबोधन में कहा कि आज हालात पूरी तरह से इनेलो-बसपा गठबंधन के पक्ष में है, क्योंकि देश-प्रदेश की जनता समझ चुकी है कि अच्छे दिनों की चाह में भाजपा को सत्तासीन करना ही उनके जीवन की सबसे बड़ी भूल थी। पार्टी पदाधिकारी, नेतागण व कार्यकर्त्ता जनभावनाओं के अनुरूप अधिक से अधिक लोगों के बीच जाकर उनकी समस्याएं सुनें, उनका निदान करवाने का प्रयास करें। इस मौके पर बसपा प्रदेशाध्यक्ष प्रकाश भारती ने भी कार्यकर्त्ताओं में जोश भरते हुए कहा कि बसपा और इनेलो मिलकर अब एक और एक ग्यारह बन गए हैं। इनेलो-बसपा गठबंधन को जनता ने स्वीकार किया है और इसी जन समर्थन के सहारे आगामी चुनावों में प्रदेश में गठबंधन की सरकार बनेगी। राज्य में इनेलो सुप्रीमो औमप्रकाश चौटाला एक बार फिर मुख्यमंत्री बनेंगे तो देश में बसपा प्रमुख मायावती प्रधानमंत्री बनेंगी। बसपा के प्रदेश उपाध्यक्ष नरेन्द्र प्रजापति ने अपने संबोधन में कहा कि भाजपा ने जात-पात व धर्म के नाम पर आपसी भाईचारा खराब किया है। 35 बिरादरी का नारा देकर लोगों को लड़वाया। उन्होंने कहा कि गठबंधन को पूरे प्रदेश में जनसमर्थन मिल रहा है। प्रजापत ने कहा कि चुनाव नजदीक आते देख भाजपा सरकार को अब ओ बी सी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने व एस टी एस सी कानून को सख्त करने की बात याद आई है। उन्होंने कहा कि जननायक स्व चौधरी देवीलाल और इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला ने दलित व पिछड़े वर्ग को सत्ता में भागीदारी दी। दोनों दलों ने जनहित को समझते हुए जो पवित्र गठबंधन किया है, उसके निकट भविष्य में अच्छे परिणाम आएंगे। इस अवसर पर जिला उपाध्यक्ष सुरेन्द्र लेगा, युवा जिलाध्यक्ष अजय संधु, युवा प्रदेश उपाध्यक्ष राणा जोहल, हलकाध्यक्ष भरत सिंह परिहार, हरि सिंह मेहरिया, बिकर सिंह हड़ोली, बलदेव कसवां, विकास मेहता, पूर्व युवा जिलाध्यक्ष राकेश सिहाग, पवन चुघ, सुमनलता सिवाच, सतेन्द्र श्योराण, पूर्ण नारंग, रमेश कंबोज, देवीलाल गोदारा, दरेश खान, हरबंस खन्ना, जतिन खिलेरी, जसपाल संधू, रवि लांबा, सतपाल सिद्धू, बंटी बरसीन, मोनू सोनी, अनिल डागर, राजू सरदाना सहित पार्टी के अनेक पदाधिकारी व कार्यकर्त्ता उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment