Thursday, July 26, 2018

दुष्यंत के प्रयासों को लगे पंख, हिसार-चंडीगढ़ के बीच रेल सेवा शुरू होने की बंधी उम्मीद

एकता एक्सप्रेस को हिसार से चलाने का प्रस्ताव मुख्यालय को भेजा
साउथ बाइपास के सातरोड़ और घोड़ा फार्म फाटक पर आरओबी बनाने का प्रस्ताव भी भेजा
हरिद्वार के लिए अब हिसार से सप्ताह में तीन बार चलेगी रेलगाड़ी

हिसार 26 जुलाई: हिसार को चंडीगढ़ से रेलमार्ग से जोडऩे के सांसद दुष्यंत चौटाला के प्रयासों को गति मिली है और रेलवे मंडल बीकानेर से हिसार-चंडीगढ़ के बीच रेलसेवा शुरू करने के प्रस्ताव को मंजूर कर इसे मुख्यालय भेज दिया है। मुख्यालय से मंजूरी पर मिलने प्रदेश की राजधानी के लिए वैकल्पिक व्यवस्था के तौर पर एकता-एक्सप्रेस को हिसार से चलाया जाएगा, इससे पहले यह रेलगाड़ी चंडीगढ़ होती हुई भिवानी-कालका के बीच चलती है। इसके अलावा हरिद्वार जाने वाली रेलगाड़ी अब हिसार सप्ताह में दो की बजाय सप्ताह में तीन बार चलेगी तथा इसे नियमित करने का प्रस्ताव भी मुख्याल भेजा है। साउथ बाइपास पर सतारोड़ व घोड़ा फार्म फाटक पर आरओबी बनाने तथा कैमरी रोड़ पर प्रदेश सरकार व रेलवे के संयुक्त प्रोजेक्ट के रूप में आरओबी बनाने का भी प्रस्ताव रेलवे मुख्यालय को भेज दिया है। सांसद दुष्यंत चौटाला ने उपरोक्त मांगों के लिए एक एजेंडा रेलवे बीकानेर मंडल को भेजा गया था। दुष्यंत चौटाला ने बताया कि बीकानेर मंडल रेलवे के उच्च अधिकारियों की बुधवार को आयोजित डीआरयूसीसी की बैठक में उनके एजेंडे को रखा गया जिनके प्रस्ताव मुख्यालय को भेज गए हैं। यहां बता दें कि सांसद दुष्यंत चौटाला ने हिसार को चंडीगढ़ को जाखल, नरवाला-कुरूक्षेत्र चंडीगढ़ तथा हिसार-जाखल-धूरी, राजपुरा-पटियाला ट्रैक से की मांग की हुई है। भिवानी का साउथ बाईपास अगस्त माह में शुरू होगा-दुष्यंत चौटाला हिसार-दिल्ली-हिसार के बीच रेल यात्रा को सुगम बनाने के लिए भिवानी में निर्माणाधीन रेलवे बाइपास का काम जल्द ही पूरा होने जा रहा है। इस बाईपास पर अगस्त माह में रेलगाडिय़ां दौडऩी शुरू हो जाएंगी। सांसद दुष्यंत चौटाला ने बताया कि रेलवे विभाग प्रथम चरण में मालगाड़ी को इस बाइपास पर चलाएगा। इसके बाद बाइपास पर रेलवे स्टेशन की तमाम मूलभूत सुविधांए होने के बाद इस ट्रैक पर सवारी गाडिय़ां भी शुरू हो जाएंगी। इसके लिए बीकानेर रेलवे मंडल कार्यालय ने बाइपास पर हाल्ट स्टेशन को पूर्ण दर्जे का रेलवे स्टेशन विकसित करने का प्रस्ताव भी मुख्यालय को भेज दिया है। इसके आलवा रेलवे के अधिकारियों ने कल की बैठक में किसान एक्सप्रेस का बवानी खेड़ा में ठहराव का प्रस्ताव भी मुख्यायल भेजा है। 
बाईपास से ये होगा फायदा-
हिसार-दिल्ली के बीच चलने वाली ट्रेन को भिवानी सिटी जंक् शन जाना पड़ता है और हिसार व रोहतक से आने वाली रेलगाडिय़ों को भिवानी रेलवे स्टेशन पर रेलगाड़ी के इंजन को बदलना पड़ता है ताकि वह गंतव्य स्थान तक रवाना हो सके। इस पूरी प्रक्रिया में 30 से 40 मिनट लग जाते हैं और रेलगाड़ी को रेलवे इंजन की अदला-बदली के लिए यहां रूकना पड़ता है और यात्रियों को अपनी मंजिल तक पहुंचने में ज्यादा समय लगता है। बाइपास बनने से यात्री भिवानी जंक्शन पर इंजन बदलने की जरूरत नहीं होगी ओर रेलगाड़ी अपने गंतव्य स्थान के लिए बाइपास से रवाना हो जाएगी। 

No comments:

Post a Comment