Thursday, July 26, 2018

केंद्र सरकार हस्तक्षेप कर पंजाब के खनौरी हेड से हरियाणा को दिलवाए 325 क्यूसिक पानी- दुष्यंत चौटाला 


हिसार, 26 जुलाई: पंजाब से भाखड़ा मुख्य नहर (बीएमएल) के माध्यम से हरियाणा को कम मिल रहे का मुद्दा इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में उठाया। सांसद दुष्यंत चौटाला ने सदन में कहा कि पंजाब सरकार के अवरोध के कारण हरियाणा को बरवाला ब्रांच में उसके हिस्से का 325 क्यूसिक पानी नहीं मिल रहा है। इसके कारण हरियाणा के चार जिले बूरी तरह से प्रभावित हो रहे हैं। उन्होंने केंद्र सरकार से इसमें हस्तक्षेप कर हरियाणा को उसके हिस्से का खनौरी हेड से 325 क्यूसिक पानी दिलवाने की मांग की। दुष्यंत ने लोकसभा में हिसार लोकसभा के आदमपुर, नलवा, नारनौंद, उचाना हलके के गांवों में पानी के किल्लत का मुद्दा भी उठाया। युवा सांसद ने देश में बढ़ते जल विवादों के निपटान और भविष्य में पानी की कमी को ध्यान में रखते हुए जल को राष्ट्रीय संपदा घोषित करने की भी मांग की। सांसद दुष्यंत ने यमुना नदी पर पेंडिंग डेम का काम पूरा करने भी मांग की ताकि हरियाणा में पानी की कमी को कुछ हद तक पूरा किया जा सके।
इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में सूखे एवं बाढ़ की देश में स्थिति पर आयोजित चर्चा में भाग लेते हुए कहा कि बीएमएल नहर के खनौरी हेड से हरियाणा को 1725 क्यूसिक पानी मिलना चाहिए। परन्तु नहर की रेजिंग न होने के कारण अभी हरियाणा को मात्र 1400 क्यूसिक पानी ही मिल रहा है। दुष्यंत ने कहा कि राजस्थान सरकार ने पंजाब सरकार को एक पत्र लिख कर 325 क्यूसिक पानी के लिए रेजिंग करने की राह में रोड़ा अटका दिया था। इस मामले को लेकर सांसद दुष्यंत चौटाला फरवरी माह में केंद्रीय जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी से मिले थे जिसके बाद यह विवाद भी सुलझ गया है तो पंजाब ने इसकी राह में रोड़े अटका दिए हैं, इसके कारण प्रदेश के हिसार सहित चार जिले कम पानी की कमी से बुरी तरह से प्रभावित हो रहे हैं। दुष्यंत ने कहा कि केंद्र सरकार पहल कर बीएमएल के माध्यम से हरियाणा को उसके हकर का 325 क्यूसिक पानी दिलवाए। 
 युवा सांसद दुष्यंत ने कहा कि खनौरी हेड से कम पानी के चलते हालात इस कदर खराब हैं कि आदमपुर-नलवा  विधानसभा के 40 गांवों, नारनौंद हलके के 12 गांवों, उचाना हलके के  7 गांवों में लोगों को पीने का पानी भी नहीं मिल रहा है और 1200 से 1500 रूपये देकर पीने के टैंकर खरीदने पड़ रहे हैं। जिले में 80 गांव ऐसे हैं जहां पर सेम की समस्या है। यहां बता दें कि इन गांवों के लोगों ने पीने के पानी के लिए लधु सचिवालय पर कई माह तक धरना दिया था। 
इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने प्रधानमंत्री सिंचाई योजना के  केंद्र सरकार की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि हरियाणा, राजस्थान पंजाब में 2025 तक सिंचाई के लिए भूजल समाप्त हो जाएगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा की जल की जरूरत 36 मीलियन एकड़ फीट की जरूरत है जबकि हरियाणा को 14 लाख मीलियन एकड़ फीट पानी मिलता है, इसमें से भी दिल्ली को अतिरिक्त पानी की आपूर्ति की जाती है। उन्होंने हरियाणा मेंपानी की कमी को दूर करने यमुना पर पेंडिंग पड़े रेनुका सहित तीन डेमों का निर्माण पूरा करने की केंद्र सरकार से मांग की। उन्होंने कहा कि इन डेमों के लिए केंद्र सरकार ने 1500 करोड़ रूपये आवंटित किए थे परन्तु आज तक इस पर एक रूपया भी खर्च नहीं हुआ। युवा सांसद ने एक बार फिर केंद्र सरकार से एसवाईएल नहर के निर्माण की मांग की। 

No comments:

Post a Comment