Wednesday, July 11, 2018

एमएसपी वृद्धि में सरकार ने की स्वामीनाथन आयोग की अनदेखी- इनेलो


फतेहाबाद: इनेलो ने धान के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 200 रुपए क्विंटल की वृद्धि के केन्द्र सरकार के फैसले को किसानों के साथ ऐतिहासिक विश्वासघात करार दिया है। इस बाबत भूना रोड स्थित रेस्ट हाउस में इनेलो किसान सैल प्रदेशाध्यक्ष निशान सिंह व स्थानीय विधायक बलवान दौलतपुरिया ने पत्रकार वार्ता कर इस मामले में अपनी कड़ी आपत्ती दर्ज करवाई। इनेलो नेताओं ने स्वामीनाथन आयोग लागू करने के नाम पर केवल धान का समर्थन मूल्य दो सौ रूपये बढ़ाए जाने को केवल मात्र लोकसभा चुनावों में किसानों को बरगलाने भर के लिए अपनाया गया ओच्छा हथकंडा करार दिया। इस मौके पर प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य कुलजीत कुलडि़या, जिला उपाध्यक्ष सुरेन्द्र लेगा, टोहाना हलकाध्यक्ष हरी सिंह मेहरिया व शहरी प्रधान पवन चुघ भी मुख्य रूप से उपस्थित रहे।
स निशान सिंह ने कहा कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) ने केवल मात्र लोकसभा चुनावों को नजदीक आता देख एमएसपी वृद्धि का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने स्वामीनाथन समिति की सिफारिशों के मुताबिक सी 2 $ 50 प्रतिशत फॉर्मूला के मुताबिक एमएसपी तय करने का वादा किया था, लेकिन उन्होंने ए 2 $ एफएल लागतों के आधार पर एमएसपी की घोषणा की। जबकि उन्होंने अधिक व्यापक सी 2 लागत का वादा किया था। सच यह है कि स्वामीनाथन आयोग ने खेती की सभी प्रकार की लागतों को जोड़कर जिसे सी-2 लेवल कहा जाता है, इसमें 50 फीसद और जोड़ने की बात कही थी, मगर सरकार ने ए-2 जमा परिवार की मजदूरी में 50 फीसद जोड़कर एमएसपी घोषित किया है। किसान इतनी बारीकी को नहीं समझ पाता और भाजपा ने उसकी इसी कमजोरी का लाभ उठाने के लिए एमएसपी बढ़ाने के नाम पर केवल मात्र उसे भ्रमित किया है। निशान सिंह ने कहा कि इस तरह उंगली काट शहीद कहलवाने की सोच रखने वाली भाजपा के मंसूबों को किसान वर्ग कभी पूरा नहीं होने देगा। भाजपा सरकार को यह समझ लेना चाहिए कि किसान भोला जरूर है,लेकिन इतना अज्ञानी नहीं रहा। उसे यह बात बखूबी समझ आ चुकी है कि सरकार उसे एक बार फिर धोखा दे रही है। इस दौरान विधायक बलवान दौलतपुरिया ने आंकड़ों का हवाला देते हुए बताया कि पिछले साल धान की खेती की लागत प्रति किं्वटल 1440 रुपये के करीब थी। इस हिसाब से धान का समर्थन मूल्य पिछले साल ही 2200 रुपये से ऊपर होना चाहिए था न कि 1550 रुपये। यह मूल्य इस साल 2300 रुपये से ऊपर होना चाहिए परंतु सरकार ने घोषित किया है केवल 1750 रुपये। उन्होंने बताया कि स्वामी नाथन आयोग लागू करके किसानों के बीच झूठ का राजनीतिक स्वांग रचने वाली भाजपा की पाले स्वयं सवामीनाथन आयोग ने ही खोल कर रख दी है। उन्होंने बताया कि इस संबंध में हाल ही में डॉ. एमएस स्वामीनाथन का एक वक्तव्य भी आ चुका है, जिसमें कहा गया है कि उन्होंने अपनी रिपोर्ट में सी-2 लागत के ऊपर एमएसपी घोषित करने की सिफारिश की थी, जबकि सरकार ने एमसपी वृद्धि करने में उनकी इस तरह के किसी तथ्य को ध्यान में नहीं रखा। उन्होंने कहा कि धरातल स्तर पर यदि भाजपा सरकार की किसानों के प्रति सोच पर बात करें तो सचाई यह है कि पिछले वर्षो में सरकार ने जो एमएसपी घोषित किया था उसका लाभ ही किसानों को अभी तक ठीक से नहीं मिल पाया है। इनेलो नेताओं ने कहा कि भाजपा सरकार के एमएसपी के फैसले में सिर्फ वोट की राजनीति नजर आ रही है। यदि उसकी नीयत साफ होती तो सत्ता में आने पर वह सबसे पहले किसान हित में आयोग की सिफारिशों को लागू करती। इस मुद्दे को चार साल तक ठंडे बस्ते में डाले रखने से स्पष्ट होता है कि उसकी किसानों का भला करने की इच्छाशक्ति ही नहीं है। अब चुनाव से ऐन वक्त पहले इन सिफारिशों को लागू करने का जो दावा किया जा रहा है वह सिर्फ वोट के लिए किसानों का दोहन करने के लिए है। एमएसपी तय करने की आदर्श स्थिति तो यह है कुल लागत में खेती का खर्च भी जोड़ा जाए क्योंकि आजकल बड़ी संख्या में किसान किराए पर जमीन लेकर खेती कर रहे हैं। यदि इस पर अमल किया जाए तो प्रमुख फसल के एमएसपी की दरें काफी ऊंची बैठेंगी किंतु इस पर कोई गौर नहीं किया गया। सचाई यह है कि अब 24 से अधिक फसलें एमएसपी के दायरे में आती हैं लेकिन देश के ज्यादातर राज्यों में गेहूं, धान, गन्ना और कपास के अलावा कोई भी फसल न्यूनतम समर्थन मूल्य पर नहीं खरीदी जाती। इनेलो नेताओं ने कहा कि किसानों के आदर्श नेता रहे स्व देवीलाल की सोच को आगे लेकर चल रही पूर्व सीएम औमप्रकाश चौटाला के नेतृत्व वाली इनेलो इस मामले में किसानों के साथ किसी तरह का धोखा नहीं होने देगी। एसवाईएल मामले में जारी जेल भरो आंदोलनों में भाजपा के एमएसपी के नाम पर धान की फसल में केवल 200 रूपये की बढ़ोतरी की पोल खोलने का काम भी इनेलो करेगी। साथ ही किसानों के सामने स्वामीनाथन आयोग के नाम पर भाजपा की ओच्छी राजनीति को भी बेपर्दा करने का काम करेगी। इस अवसर पर पार्टी के कई अन्य पदाधिकारी व कार्यकर्त्ता भी उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment