Wednesday, July 11, 2018


 एसवाईएल का पानी लाने के लिए किया गया संघर्ष किसी भी सूरत में नहीं थमेगा- अभय चौटाला 


सिरसा: हरियाणा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि इनेलो बसपा गठबंधन का हरियाणा में एसवाईएल का पानी लाने के लिए आरंभ किया गया संघर्ष किसी भी सूरत में नहीं थमेगा और इस मुद्दे पर सर्वोच्च न्यायालय की ओर से दिए गए आदेश को हर हाल में लागू कराया जाएगा।
वे बुधवार को हिसार रोड स्थित पर्ल रिजॉर्ट में इनेलो और बसपा की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने प्रदेश में इनेलो बसपा गठबंधन की ओर से प्रदेश के 20 जिलों में चलाए गए जेल भरो आंदोलन की अब तक सफलता के लिए गठबंधन के प्रत्येक कार्यकर्ता और पदाधिकारी को अपनी ओर से शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि एसवाईएल मुद्दे पर इनेलो ने दिल्ली में एक विशाल रैली करके केंद्र सरकार को सर्वोच्च न्यायालय का आदेश अमलीजामा पहनाने के लिए संदेश दिया था मगर सरकार की उदासीनता के कारण ही इनेलो बसपा गठबंधन को प्रदेशभर में जेल भरो आंदोलन आरंभ करने का निर्णय लेना पड़ा। इस आंदोलन की भूमिका से आज केंद्र और प्रदेश भाजपा सरकार भयभीत हैं मगर उनकी इतनी हिम्मत नहीं हो सकी कि गठबंधन के किसी छोटे कार्यकर्ता को तो क्या इस आंदोलन में प्रचार प्रसार की प्रमुख भूमिका निभाने वाले जेल की सलाखों के पीछे कर सके। उन्होंने कहा कि इनेलो प्रमुख चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के दिशा निर्देशानुसार आरंभ किए गए इस जेल भरो आंदोलन का समापन 17 जुलाई को जिला भिवानी में होगा जिसके लिए गठबंधन के तमाम पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को अपनी पूरी ताकत लगानी होगी। उन्होंने कहा कि गठबंधन ने अपने जेल भरो आंदोलन अभियान का आगाज जिला भिवानी से ही किया था जिसके पीछे का मकसद यही था कि एसवाईएल का पानी जब भी हरियाणा में प्रवेश करेगा तो सबसे पहले भिवानी जिला ही उससे लाभान्वित होगा। उसके अलावा दादरी, महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, गुडग़ांव, झज्जर और कुछ क्षेत्र हिसार के नारनौंद का भी लाभान्वित होगा। उन्होंने कहा कि भिवानी जिले में जेल भरो आंदोलन का समापन इतना विशाल होगा कि प्रदेश और केंद्र सरकार इस गंभीर मुद्दे पर सोचने पर बाध्य होंगी। अभय सिंह चौटाला ने कहा कि प्रदेश और केंद्र सरकार के स्तर पर अनेक बेकायदगियां हैं जिन पर प्रतिदिन धरने प्रदर्शन किया जा सकते हैं मगर फिलहाल गठबंधन के लिए प्रदेशवासियों के हितों से जुड़ा एसवाईएल का मुद्दा ही विशेष है। उन्होंने भिवानी में 17 जुलाई को होने वाले जेलभरो आंदोलन के लिए ज्यादा से ज्यादा लोगों को भिवानी लाने के लिए मौके पर पार्टी के तमाम विधायकों और सांसदों से आह्वान किया कि वे अपने एक माह का पूरा वेतन लोगों को भिवानी लाने के लिए गाडिय़ों का प्रबंध करने में खर्च करें। उन्होंने सभी पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि उन्हें अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए पहले की अपेक्षा कई गुणा एग्रेसिव मोड पर आकर संघर्ष करना होगा। उन्होंने इस विशाल आंदोलन में महिलाओं की भागेदारी की भी मुक्तकंठ से प्रशंसा की। उन्होंने खुलेतौर पर कहा कि इनेलो बसपा गठबंधन के लिए एसवाईएल का पानी प्रदेश में लाने के साथ-साथ 350 करोड़ खर्च करने के बाद दादूपुर नलवी नहर के बंद किए गए प्रोजेक्ट को भी पुन: आरंभ कराने और मेवात क्षेत्र को यमुना से 600 क्यूसिक पानी दिलाने के मुद्दे पर संघर्ष करना प्राथमिकता है। उन्होंने मौजूदा सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि यह सरकार किसान विरोधी है जिसने दादूपुर नलवी नहर के प्रोजेक्ट को महज इसलिए बंद कर दिया क्योंकि इस नहर के मामले में किसानों को एन्हांसमेंट के रूप में किसानों को राशि दी जानी थी। यदि इस नहर का प्रोजेक्ट जारी रहता तो बरसाती पानी के कारण इसका वाटर रिचार्जिंग सिस्टम बेहतर होता मगर मौजूदा किसान विरोधी भाजपा सरकार को यह मंजूर नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि जेल भरो आंदोलन के बाद भी इनेलो बसपा गठबंधन किसी भी प्रकार से संघर्ष नहीं रोकेगा और शीघ्र ही दोनों राजनीतिक दलों की बैठक में फिर से नए आंदोलन की रूपरेखा तैयार की जाएगी। इससे पूर्व हिसार के सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला ने भी मौजूदा प्रदेश सरकार को हर मोर्चे पर विफल करार दिया। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार केंद्र की भाजपा सरकार ने प्रदेश के युवाओं को रोजगार के नाम पर छला, किसानों को डॉ. स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने, महिलाओं के सम्मान और सुरक्षा के रूप में जो दावे किए थे, वे सभी फेल हुए हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा रोडवेज के बेडे में गुजरात की किसी निजी कंपनी से बातचीत कर 700 नई बसें शामिल करने का भी एक बड़ा षड्यंत्र रचा जा रहा है जिसे पार्टी पर पूरा संज्ञान लेना चाहिए क्योंकि इनेलो शासनकाल में रोडवेज विभाग लाभ में था और इसमें करीब 28 हजार कर्मचारी नियुक्त थे मगर अब इस विभाग के प्रति सरकार की उदासीनता के चलते यह घाटे में चला गया और इसमें अब महज 17 हजार कर्मचारी ही बचे हैं और इसमें से भी कुछ ठेके पर नियुक्त हैं। सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला ने कहा कि जिन युवाओं को देश का भविष्य बताया जाता है, उन युवाओं के लिए रोजगार की कुछ भी व्यवस्था नहीं की गई है जिससे देश और प्रदेश का युवा हताश और निराश है। उन्होंने भविष्य में इनेलो बसपा गठबंधन की ओर से युवाओं के लिए बेहतर व्यवस्था करने का आश्वासन देते हुए आगामी 5 अगस्त को कैथल में इनसो की ओर से आयोजित किए जाने वाले स्थापना दिवस पर भी प्रदेश के युवाओं को अधिकाधिक संख्या में शामिल होने का आमंत्रण दिया। इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने अपने संबोधन में केंद्र सरकार की ओर से खरीफ फसलों के नाम पर एमएसपी को भी किसानों के साथ भद्दा मजाक बताया। उन्होंने कहा कि एक ओर देश का प्रधानमंत्री और भाजपा एमएसपी के नाम पर जश्र मना रहे हैं वहीं दूसरी ओर देश प्रदेश में किसान आत्महत्या करने पर आमादा हैं। इतना ही नहीं महिलाओं के प्रति भी अपराधों में वृद्धि हुई है जो चिंतनीय है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसानों की पतली हालत किसी से छिपी नहीं है और प्रदेश का कृषि मंत्री एमएसपी के नाम पर ढोल बजाकर खुशी जाहिर कर रहा है जो हैरानीजनक है। बसपा के प्रदेश उपाध्यक्ष नरेंद्र प्रजापति ने प्रदेश में पिछले साढ़े तीन सालों के दौरान हत्या, अपहरण, डकैती, महिलाओं के खिलाफ बढ़े अपराधों का विस्तृत ब्यौरा देते हुए सरकार से नैतिक तौर पर त्यागपत्र देने की मांग की।
इससे पूर्व इनेलो बसपा गठबंधन की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में तीन महत्वपूर्ण प्रस्ताव लाए गए जिसमें पहला केंद्र सरकार की ओर से देश के किसानों के लिए खरीफ फसलों के लिए निर्धारित किए गए न्यूनतम समर्थन मूल्य को नाकाफी बताते हुए इसकी निंदा की गई और इसे गठबंधन की ओर से नकारने का निर्णय लिया गया। समूची कार्यकारिणी ने पूर्व विधायक रामपाल माजरा की ओर से डॉ. स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को पूरी तरह से लागू करने की मांग का समर्थन किया गया। इसके साथ-साथ बसपा के प्रदेश उपाध्यक्ष नरेंद्र प्रजापति द्वारा प्रदेशभर में महिलाओं और छोटी बच्चियों के संग दुष्कर्म की बढ़ी घटनाओं पर चिंता जाहिर करते हुए उसे नैतिकता के आधार पर त्यागपत्र देने का प्रस्ताव रखे जिसे ध्वनिमत से पारित किया गया। प्रदेश कार्यकारिणी के अंत में हरियाणा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला द्वारा प्रदेशवासियों के हित के लिए एसवाईएल का पानी हर हाल में हरियाणा में लाए जाने तक गठबंधन द्वारा संघर्ष जारी रखने का प्रस्ताव रखा गया जिस पर प्रदेश कार्यकारिणी ने अपनी स्वीकृति दी। इस अवसर पर इनेलो के जिलाध्यक्ष पदम जैन, सिरसा के सांसद चरणजीत सिंह रोड़ी, सिरसा के विधायक मक्खनलाल सिंगला, कालांवाली के विधायक बलकौर सिंह, रानियां के विधायक रामचंद्र कंबोज, इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा, पूर्व मंत्री रामपाल माजरा, पूर्व निकाय मंत्री सुभाष गोयल, बसपा के कृष्ण जमालपुर, सुरेंद्र पंघाल, लीलूराम आसाखेड़ा, दयाराम जोइया, गुरदीप कंबोज, रविंद्र बाल्याण सहित इनेलो के सभी विधायक, सांसद, पूर्व विधायक सहित पार्टी के तमाम पदाधिकारी मौजूद थे। इसके बाद इनेलो के प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने मीडियाकर्मियों रूबरू होते हुए इनेलो बसपा गठबंधन की ओर से गठबंधन की प्रदेश कार्यकारिणी में लिए गए निर्णयों की विस्तृत जानकारी दी। 

No comments:

Post a Comment