Saturday, April 14, 2018

इनेलो कार्यकर्ताओं ने डाॅ. भीमराव अंबेडकर को पुष्प अर्पित कर दी श्रद्धांजलि



शनिवार को इनेलो जिला मुख्यालय, नूँह पर इनेलो कार्यकर्ताओं ने इनेलो विधायक चौ. जाकिर हुसैन के नेतृत्व में संविधान निर्माता बाबा साहब डाॅ. भीमराव अंबेडकर की 127 वीं जयंती मनाई। इनेलो कार्यकर्ताओं ने बाबा साहब को पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इनेलो विधायक चौ. ज़ाकिर हुसैन ने कहा कि इनेलो पार्टी ने पिछले वर्ष स्व: चौ. देवीलाल के जन्मदिवस के मौके पर फैसला लिया था कि भारत रत्न डाॅ. भीमराव अंबेडकर की जयंती हर वर्ष इनेलो द्वारा मनाई जाएगी। उन्होंने कहा कि इनेलो ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो 36 बिरादरी व सभी वर्ग के लोगों को एकसाथ लेकर चलने का काम करती है। उन्होंने कहा कि आज हमें इस बात की आवश्यक्ता है कि हम जात-पात, ऊँच-नीच और सांप्रदायिकता के भेदभाव को समाप्त कर एक भारत-श्रेष्ठ भारत के लिए मिलकर काम करें, उन महापुरुषों को यही हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी।  इससे समाज के लोगों में प्रेम और भाईचारे की भावना मजबूत होगी। डॉ. भीम राव अम्बेडकर ने आजादी के आंदोलन में बढ़चढ़ कर भाग लिया और देश के करोड़ों दीन-दुखियों तथा पिछड़ों के कल्याण के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया। बाबा साहेब का व्यक्तित्व सत्य और अहिंसा से ओत-प्रोत था। एक गरीब परिवार में जन्म होने पर भी उन्होंने यह सिद्ध कर दिया कि दृढ़ संकल्प, मेहनत और साहस से मनुष्य कठिन से कठिन लक्ष्य को भी प्राप्त कर सकता है। उनका जीवन संघर्षों से भरा हुआ था लेकिन अपने उच्च मनोबल से अंबेडकर जी सामाजिक, राजनैतिक एवं आर्थिक आजादी के प्रबल समर्थक थे। इसलिए वे सिफ कमजोर, पिछड़े और वंचित वर्गों के ही नहीं बल्कि मेहनतकश लोगों के मसीहा थे, जो उनके लिए जीवन भर संघर्ष करते रहे।  
इनेलो विधायक ने कहा कि डाॅ. भीमराव अम्बेडकर हमारे देश के ऐसे महान सपूत थे, जिन्होंने जात-पात और छूआ-छूत की भावना को जड़ से मिटाने का काम किया। उन्होंने पिछड़े लोगों के कल्याण और उत्थान के लिए हमारे सामने जो आदर्श रखे, वे सदैव हमारा मार्गदर्शन करते रहेंगे। बाबा साहेब महान शिक्षाविद, प्रभावशाली वक्ता, योग्य प्रशासक और कुशल राजनेता थे। उनके व्यक्तित्व में मानवता के प्रति प्रेम तथा अन्याय, असमानता और शोषण के विरूद्ध संघर्ष करने की अदभुत क्षमता थी। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब की सोच थी कि हम अपने बच्चों विशेषकर अपनी लड़कियों को अच्छी शिक्षा दिलायें ताकि राष्ट्र का विकास हो और विश्व की तरक्की हो। बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने समाज के लिए दीपक का काम किया है। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर के मूल मन्त्र शिक्षित बनों, संगठित रहो और सघर्ष करों का जो नारा है वह हमें शिक्षा ग्रहण करने, आपस में मिलजुल कर रहने के साथ-साथ अपने अधिकारों के लिए सघंर्षरत रहने की प्रेरणा देता है। उन्होने कहा कि आज के दिन डॉ. भीमराव अम्बेडकर को यही सच्ची श्रंद्धाजंली अर्पित होगी कि हम उनके बताए मार्ग पर चले और संगठित रहकर कार्य करे। हुसैन ने कहा कि डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने 2 वर्ष 11 माह 18 दिन की अल्प अवधि में एक विस्तृत संविधान भारत को दिया है। युवा पीढ़ी को चाहिए कि वे डा. भीमराव अम्बेडकर के बताए हुए सिंद्धातों पर अमल करें ताकि वे जीवन में सफलता हासिल कर सकें।
इस अवसर पर जिलाध्यक्ष मास्टर बदरूद्दीन, इनेलो विधायक चौ. जाकिर हुसैन के सुपुत्र चौ. ताहिर हुसैन, अल्ली प्रधान, हाजी आसम, अख्तर हुसैन, हाजी शौकत, अमरसिंह सरपंच, हाजी इसराईल, हाजी नूर मौ. नंबरदार, हाजी सोहराब, लियाकत सरपंच, जाकिर भंडगाका, युनूस मुवली, इकबाल, दीनू, शमशुद्दीन, इलियास,  हाकम, मुंशी मेवली, हुसैन, दिलदार सरपंच, निसार पहलवान, मुकीम छारोड़ा आदि सैंकड़ो इनेलो नेता व कार्यकर्ता मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment