Saturday, April 21, 2018

सिरसा में इनलो, बसपा पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की हुई संयुक्त बैठक 



सिरसा: इनेलो और बसपा के राजनीतिक गठबंधन के बाद से जिला सिरसा में शनिवार को दोनों राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं की एक संयुक्त बैठक डबवाली रोड स्थित इनेलो कार्यालय में हुई जिसकी अध्यक्षता दोनों राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों ने की। कार्यक्रम के आरंभ में दोनों राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं का एक दूसरे से परिचय हुआ और दोनों दलों के नेताओं ने इस बात का दावा किया कि प्रदेश में अगली सरकार इनेलो बसपा गठबंधन की बनेगी क्योंकि आज प्रदेशवासी राजनीतिक, सामाजिक व आर्थिक तौर पर भाजपा शासन की गलत नीतियों का शिकार हो चुके हैं। बसपा के प्रदेश उपाध्यक्ष नरेंद्र प्रजापति ने कहा कि प्रदेश की जनता भाजपा शासन से इस कदर तंग आ चुकी है कि वह जल्द से जल्द इससे छुटकारा चाहती है। उन्होंने कहा कि इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ने वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए पूर्व उपप्रधानमंत्री चौधरी देवीलाल की भूमिका निभाते हुए विपक्षी दलों को एक मंच पर एकत्रित किया है। सिरसा के सांसद चरणजीत सिंह रोड़ी ने कहा कि प्रदेश की जनता इनेलो बसपा गठबंधन की सरकार को सत्तासीन होने देखना चाहती है। उन्होंने कहा कि देश में बनने वाले तीसने मोर्चे की अध्यक्ष बसपा सुप्रीमो मायावती होंगी और वे भविष्य में देश की प्रधानमंत्री भी होंगी। पूर्व मंत्री भागीराम ने कहा कि इनेलो और बसपा का गठबंधन प्रदेश के 85 फीसदी लोगों का गठबंधन है जिसे सत्ता से हमेशा वंचित रखा गया। उन्होंने दोनों दलों के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि वे पूरी ताकत और ऊर्जा के साथ गठबंधन की कल्याणकारी नीतियों का जन-जन में प्रचार करें और संगठन को मजबूत बनाएं। उन्होंने कहा कि डॉ. भीमराव अंबेडकर व चौधरी देवीलाल ने देश के किसानों और कमेरे वर्ग के कल्याण के लिए जीवनभर संघर्ष किया और उनके कल्याण के लिए ही अनेक योजनाएं बनाकर उन्हें अमलीजामा पहनाया। भागीराम ने कहा कि भाजपा आज देश में लोगों को जाति और धर्म के नाम पर एक दूसरे को लड़वा रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा आज सबका साथ सबका विकास के अपने नारे से भटक गई है। रानियां के विधायक रामचंद्र कंबोज ने कहा कि दोनों दलों का गठबंधन एक मजबूत व पवित्र गठबंधन है जो आगामी समय में प्रदेश और प्रदेशवासियों के लिए खुशहाली लेकर आएगा। उन्होंने कहा कि इस गठबंधन से सत्तापक्ष व कांग्रेस में भारी घबराहट है। बसपा के राज्य महासचिव कृष्ण जमालपुर ने कहा कि लोकतंत्र को बचाने के लिए दोनों दलों के नेताओं ने सही समय पर सही फैसला लिया है। आज प्रदेश में भाजपा असहिष्णुता, अराजकता व धर्म के नाम पर दंगे फैलाकर प्रदेश को बांटने की साजिश कर रही है। 
इस बैठक में सिरसा के विधायक मक्खनलाल सिंगला, जसवीर सिंह जस्सा, डॉ. सीताराम, वीरभान मेहता, प्रदीप मेहता, डॉ. हरिसिंह भारी, अजब ओला, कृष्णा फौगाट, महावीर शर्मा, अशोक वर्मा, कश्मीर सिंह करीवाला, मीनुद्दीन पहलवान, धर्मवीर नैन, केएल लूथरा, विनोद दड़बी, अशोक बामनिया, सुरेश कुक्कू, लक्की चौधरी, नरेश कुसुंबी, डॉ. वीके नाहर, रामसिंह सैनी, गोपी सैनी, धर्मपाल कायत, बसपा के प्रदेश उपाध्यक्ष नरेंद्र प्रजापति, प्रदेश महासचिव कृष्ण जमालपुर, जोन प्रभारी सुरेंद्र पंघाल, गुरदीप सिंह कंबोज, दयाराम चौटाला व जिला प्रभारी भूषण बरोड़ सहित अनेक पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे।

No comments:

Post a Comment