Friday, June 16, 2017

इनेलो ने फूंका मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान का पुतला, किसानों के मुद्दों को लेकर डीसी के  माध्यम से राष्ट्रपति के नाम सौंपा ज्ञापन

 
16 जून: इनेलो द्वारा आज सभी जिला मुख्यालयों पर एक विरोध प्रदर्शन कर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की किसान विरोधी नीतियों एवं पुलिस फायरिंग में मारे गए किसानों के विरोध में उनका पुतला जलाया गया और राष्ट्रपति से उनकी सरकार को बर्खास्त करने की मांग की। 


इस अवसर पर इनेलो ने जिलाधीशों के माध्यम से राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन भी दिया जिसमें मांग की गई कि किसानों के सभी कर्जे माफ किए जाएं, उनके द्वारा उत्पादित सभी फसलों व सब्जियों के न्यूनतम समर्थन मूल्य स्वामीनाथन रिपोर्ट द्वारा सुझाए फार्मूले का अनुसरण करते हुए तय कर उन्हें उत्पादन लागत पर 50 प्रतिशत मुनाफा दिया जाए। उपरोक्त आधार पर निर्धारित मूल्य से कम कीमत पर किसानों से की जाने वाली खरीद को गैर कानूनी बनाया जाए तथा आपात एवं प्राकृतिक प्रकोप की स्थिति में किसानों की सहायता के लिए एक स्थाई किसान कोष स्थापित किया जाए।  


ज्ञापन में याद दिलाया गया कि 2014 में लोकसभा चुनावों के पूर्व भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने अपने घोषणा पत्र में किसानों से स्वामीनाथन रिपोर्ट की सिफारिशों के अनुसार उनके उत्पाद की कीमत तय करने का वायदा किया था। इस वायदे को चुनाव अभियान के दौरान प्रधानमंत्री पद के तत्कालीन दावेदार श्री नरेन्द्र मोदी ने बार-बार हर मंच से दोहराया था। उन्हीं के साथ भाजपा के अन्य नेताओं ने भी अपनी चुनावी सभाओं में बार-बार उस वायदे को दोहराया था। देश के किसानों को विश्वास में लेकर भाजपा सरकार ने भी कांग्रेस की तरह विश्वासघात करते हुए सत्ता में आने के बाद इस वायदे को लागू करने में अपनी असमर्थता व्यक्त कर दी। 


ज्ञापन में इनेलो ने कहा कि कृषि क्षेत्र के संकट के कारण देशभर के किसान लगातार कर्ज में डूबते चले जा रहे हैं। इसी का परिणाम है कि हर वर्ष लगभग 17 हजार किसान आत्महत्या करने पर मजबूर हो जाते हैं। इस समस्या से निपटने का एकमात्र उपाय स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट में ही दिया गया है और जब तक उसे लागू नहीं किया जाता तब तक किसान संकट के दौर से गुजरते रहेंगे।


इनेलो के इस विरोध प्रदर्शन को न केवल किसानों बल्कि जनता का भी व्यापक समर्थन प्राप्त हो रहा है। आज पूरे प्रदेश में विरोध प्रदर्शन हुए, जिनमें हिसार में हुए प्रदर्शन एवं विरोध का नेतृत्व सांसद दुष्यंत चौटाला, कुरुक्षेत्र में पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष  अशोक अरोड़ा, अम्बाला में पूर्व डीजीपी डॉ. एमएस मलिक, रोहतक में डॉ. केसी बांगड़, झज्जर में श्री दिग्विजय चौटाला और रेवाड़ी में रणवीर गंगवा ने किया।

No comments:

Post a Comment