Wednesday, June 1, 2016

रिपोर्ट में नाम को लेकर लोकसभा में विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लेकर आऊंगा-दुष्यंत चौटाला 

नई दिल्ली/हिसार, 1 जून। इनेलो संसदीय दल के नेता एवं हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने प्रकाश सिंह कमेटी की रिपोर्ट में उनका नाम आने पर कड़ी आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा है कि सरकार एवं कमेटी ने उन्हें बदनाम करने के लिए बिना किसी तथ्य के जानबूझ कर इस रिपोर्ट में नाम लिया है और उसे सार्वजनिक किया है। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि यदि सरकार या कमेटी के पास इस बयान संबंधी कोई भी प्रमाण है तो उसे तुरंत सार्वजनिक करें अन्यथा मुख्यमंत्री तुरंत सार्वजनिक रूप से इसके लिए माफी मांगे। उन्होंने कहा कि प्रकाश सिंह जांच कमेटी को भी उनका नाम बिना किसी प्रमाण के रिपोर्ट में जिक्र करने के लिए माफी मांगनी चाहिए। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि यदि सीएम और कमेटी ने माफी नहीं मांगी तो वे इसके लिए कानूनी र्कारवाई करने को बाध्य होंगे। सांसद चौटाला ने सरकार व जांच कमेटी को खुली चुनौति देते हुए कहा कि कमेटी की रिपोर्ट में जिस भाषण का जिक्र किया गया है अगर वह साबित कर दें तो मैं हर कड़ी से कड़ी सजा भुगतने को तैयार हूं और मैं सांसद पद से इस्तीफा दे दूंगा। यदि सरकार ऐसा नहीं कर पाई तो इस मामले को लेकर लोकसभा में विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लेकर आएंगे और इसके लिए लोकसभा को नोटिस भेजेंगे। उन्होंने कहा कि खट्टर सरकार अपनी विफलता को छिपाने और मुझे बदनाम करने के लिए औछी राजनीति पर उतर आई है। 
यहां बता दें कि मंगलवार को प्रकाश सिंह कमेटी की रिपोर्ट सार्वजनिक हुई है उसमें सांसद दुष्यंत चौटाला के नाम से द्वितीय विशाल जाट महासभा के एक भाषण का हवाला दिया गया है। उन्होंने कहा कि वे न तो आज तक किसी भी महासभा के कार्यक्रम में शिरकत करने गए हैं और न ही किसी प्रकार का भाषण दिया है। यदि सरकार व कमेटी के पास इस भाषण संबंधी कोई विडियो, बयान या अन्य कोई प्रमाण है तो प्रस्तुत करे अन्यथा सार्वजनिक माफी मांगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में गृह मंत्रालय सीएम मनोहर लाल खट्टर के पास है इसलिए मुख्यमंत्री इस घटनाक्रम के लिए सीधे रूप से जिम्मेवार हैं। 

No comments:

Post a Comment