Thursday, February 22, 2018

7 मार्च की रैली रोकने के लिए बुलाया गया बजट सत्र - अभय सिंह चौटाला 


चंडीगढ़, 22 फरवरी : नेता विपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला ने चंडीगढ़ में आयोजित प्रेसवार्ता में कहा हालांकि राज्य की भाजपा सरकार ने जानबूझकर बजट सत्र की ऐसी तिथियां चुनी हैं जिनमें मुख्य विपक्षी दल इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) पूरी तरह से शामिल न हो सके, फिर भी इनेलो अपने संवैधानिक दायित्व को निभाते हुए 5 और 6 मार्च को सत्र में भाग लेते हुए एसवाईएल के मुद्दे बारे काम रोका प्रस्ताव भी रखेगा। उन्होंने याद दिलाया कि 5 मार्च को बजट सत्र बुलाया गया है जबकि कई महीनों से सरकार यह जानती थी कि 7 मार्च को इनेलो द्वारा दिल्ली में एसवाईएल नहर के निर्माण कार्य को पूरा करने बारे ‘अधिकार रैली’ का आयोजन किया गया है।
इनेलो नेता ने सभी को 7 मार्च की रैली में सम्मिलित होने का न्यौता देेते हुए कहा कि इनेलो हरियाणा के अधिकार के नदियों के जल को राज्य में लाने के लिए हर संभव दबाव भी बनाएगी और प्रयास भी करेगी। उन्होंने याद दिलाया कि इनेलो ने सिलसिलेवार तरीके से धरने और प्रदर्शन इस संबंध में किए हैं। इसके अतिरिक्त इसने हर उस दरवाजे को खटखटाया है जहां से यह आशा बनी कि कोई केंद्र सरकार पर एसवाईएल नहर को पूर्ण करने का दबाव बना सके। इस संदर्भ में बार-बार प्रधानमंत्री को भी पत्र लिखे गए और उनके कहने पर ही गृह मंत्री राजनाथ सिंह और जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी जी से भी अलग-अलग समय में मुलाकात की गई। राष्ट्रपति को भी इस आशय का विज्ञापन इनेलो द्वारा भेजा गया था। इसके अतिरिक्त इनेलो ने राज्य सरकार को भी यह आश्वासन दिया था कि नहर निर्माण कार्य के लिए जो भी उचित कदम वह उठाएगी और केंद्र सरकार को उसके लिए सहमत कर लेगी तो इनेलो बिना किसी शर्त के उसका समर्थन भी करेगी और सरकार के साथ जो प्रयास करने हों, वह भी करेगी। यह खेद की बात है कि राज्य सरकार अपने दायित्व को निभाने में अभी तक पूरी तरह से विफल रही है।
इस संदर्भ में उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया कि वह इस मुद्दे पर राज्य के हितों बारे पूरी तरह से उदासीन है। उसकी उदासीनता का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि अभी हाल में भाजपा द्वारा जिस हुंकार रैली का आयोजन जींद में किया गया था उसमें भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने एक बार भी एसवाईएल जैसे महत्वपूर्ण मुद्दे के बारे में बात नहीं की। इसके अतिरिक्त दादूपुर-नलवी नहर निर्माण और आगरा कनाल से मेवात फीडर कनाल को मिलने वाले हरियाणा के हिस्से के जल में कटौती का भी कहीं जिक्र्र उनके द्वारा नहीं किया गया। इसके विपरीत अमित शाह ने उस अवसर पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और उनकी सरकार की मनघडं़त उपलब्धियों की तारीफें अवश्य की। उपलब्धियों के विपरीत सच्चाई यह है कि राज्य इस समय बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार के शिकंजे में जकड़ा गया है और कानून व्यवस्था पर सरकार की पकड़ इतनी लचर है कि प्रतिदिन अपराध की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। 


राज्य के किसानों के जले पर नमक छिडक़ते हुए जींद रैली में अमित शाह ने यह भी दावा किया कि भाजपा सरकार रबी फसलों के लिए किसानों को स्वामीनाथन कमिशन रिपोर्ट की सिफारिशों के अनुसार न्यूनतम समर्थन मूल्य दे चुकी है। उन्होंने यह भी दावा किया कि निकट भविष्य में उसी फार्मूले के आधार पर खरीफ फसलों के भी न्यूनतम समर्थन मूल्य निर्धारित किए जाएंगे। किन्तु किसानों को जो वास्तव में मिल रहा है उससे यह स्पष्ट हो जाता है कि यह दावे किसानों के साथ क्रूर मजाक है।
विपक्ष के नेता ने यह भी आरोप लगाया कि जींद रैली के आयोजन पर 50 से 100 करोड़ रुपए सरकार द्वारा खर्च किए गए हैं और यह मांग की कि चूंकि यह रैली एक राजनैतिक दल की थी इसलिए यह सारा खर्चा भाजपा से वसूल किया जाए। रैली के लिए इतनी बड़ी संख्या में सुरक्षा कर्मियों और अद्र्धसैनिक बलों को एकत्रित करने का एकमात्र उद्देश्य प्रदेश की जनता को धमकाना और रैली स्थल पर भीड़ एकत्रित करना था। किन्तु इसके बावजूद जिस तरीके से रैली असफल हुई है उससे प्रदेश की जनता ने भाजपा को आइना दिखाकर उसकी स्थिति स्पष्ट कर दी है। नेता विपक्ष ने आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का समर्थन करते हुए यह मांग की कि भाजपा ने जो वायदा इन सभी कर्मचारियों को अपने चुनावी घोषणा पत्र में किया था उसे वह पूरा करे। 
इस अवसर पर अभय सिंह चौटाला ने अभी हाल में दिल्ली राज्य के मुख्य सचिव पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की उपस्थिति में उन्हीं के घर किए गए कथित आपराधिक हमले की भी निंदा की और मांग की कि इस संबंध में अरविंद केजरीवाल के विरुद्ध आपराधिक मामला दर्ज किया जाना चाहिए।
दिल्ली मे उमड़ेगा जनसैलाब: बलदेव घनघस



भिवानी : इनलो के प्रदेश सचिव व 7 मार्च के दिल्ली विरोध प्रदर्शन के भिवानी प्रभारी बलदेव घनघस ने कहा कि एसवाईएल आज के किसान की जरूरत है। इनलो एसवाईएल के लिए कोई भी कुर्बानी देने लिए तैयार है। देवीलाल सदन मे हल्का भिवानी की बैठक करते हुए उन्होंने कहा कि किसान खेती करने में पहले ही असमर्थ है। सरकार की कारगुजारियों के कारण खाद व अन्य मूलभूत सुविधाओं की कमी के कारण किसान आत्महत्याएं करने पर मजबूर हैं उपर से एसवाईएल का पानी हरियाणा को न मिलना भी किसान की दुर्गती का कारण है। इनेलो इस ज्यादती को सहन नहीं करेगा। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी एसवाईएल का निर्माण न करना सरकार की औच्छी मानसिकता को दर्शाता है।बलदेव सिंह ने कहा कि एसवाईएल के लिए  24,25,26 फरवरी से हल्के भिवानी के प्रत्येक गांव का दौरा कर किसानो को निमंत्रण देंगे।उन्होंने कहा की इनेलो 7 मार्च के लिए दिल्ली के अंदर विरोध  प्रदर्शन करेगा। अकेले भिवानी हल्के से सैकडो गाडियों के साथ हजारों कार्यकर्ता दिल्ली पहुचेंगे।
इस अवसर पर बलदेव घणघस प्रदेश महासचिव,जितेन्द्र शर्मा,प्रदीप खरकीया,सुबेदार राजेन्द्र ढाणा,प्रेमधनाना,सिंहराम,सुबे सिंह यादव,शंकर आहुजा,कमलजीत यादव, विक्रम बड़ेसरा, गांधी नौरंगाबाद, ओम नाई कायला,रामानंद यादव,सदाराम यादव ,मनीराम सरपंच आदि मौजूद थे।
अभय सिंह चौटाला ने किसानों को 7 मार्च की रैली में शामिल होने का निमंत्रण दिया 


सिरसा : नेता प्रतिपक्ष चौ. अभय सिंह चौटाला ने कहा कि जननायक चौ० देवी लाल द्वारा सतलुज-यमुना लिंक नहर के पानी को हरियाणा मेे लाए जाने हेतु उनके द्वारा किया गया सर्घष जब तक जारी रहेगा जब तक एस.वाई.एल का पानी हरियाणा के खेतों में नही पहुँच जाता। चौटाला आज यहाँ गांव बणी, करीवाला, दमदमा, जगजीत नगर, संतनगर, जीवन नगर व नकोड़ा गांव में ग्रामीणों को जनजागरण अभियान के तहत संबोधित कर रहे थे। अपने तीन दिवसीय दौरे के अंतिम दिन चौटाला ने कहा कि एस.वाई.एल का पानी हरियाणा में लाकर चौ. देवीलाल के सपनों को पूरा किया जायेगा। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि पूर्व की कांग्रेस सरकार व वर्तमान में भाजपा सरकार ने इस नहर के लिए कोई भी ठोस कदम नही उठाए जिस के चलते नहर को मिट्टी से भर दिया गया जो सरकार की असफलता को दर्शाता है। उन्होंने नहर का पानी हरियाणा में आने पर केन्द्र सरकार को पूरी तरह दोषी ठहराते हुए कहा कि उच्चतम न्यायलय का फैसला आए हुए 16 महीने हो गए लेकिन केन्द्र सरकार अपनी कमजोरी के चलते इस फैसले को लागू नही करवा पाई। इनेलो नेता ने कहा कि हरियाणा का किसान आर्थिेक रूप से सम्पन्न हो इसलिए सबसे पहले चौ. देवीलाल ने नहर खुदाई हेतु एक करोड़ रूपये दिए थे। विपक्षी नेता ने उपस्थित ग्रामीणों को आगामी 7 मार्च को दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित होने वाली जलयुद्ध रैली में शामिल होने का न्योता देते हुए कहा कि यह हरियाणा के किसानों के जीवन -मरण की लड़ाई है तथा किसान अपना हक लेकर रहेंगे। चौटाला ने केन्द्र व प्रदेश की भाजपा सरकार को चेताने हेतु रैली में लाखोंं की भीड़ जुटेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश की सरकार पूर्व मे किए गए अपने सभी वायदों को भूल चुकी है तथा जनता का शोषण करने में लगी है। इनेलो नेता ने कहा प्रदेश का प्रत्येक वर्ग कर्मचारी, किसान, व्यापारी व छात्र इस सरकार की नीतियों से दुखी हो चुका है तथा बदलाव चाहता है। प्रदेश की जनता इनेलो को सत्ता सोंपने का मन बना चुकी है तथा भविष्य में जनता के समर्थन से प्रदेश में इनेलो की सरकार बनेगी तथा प्रदेश में एक बार फिर चहुँमुखी विकास होगा। उन्होंने कहा कि स्वामीनाथन आयोग की रिर्पाट तक लागू न होने के कारण किसानों को उनकी उपज का मूल्य नही मिल रहा है जिससे किसानों कारण मंडियों में लूटा जा रहा है। इस मौके पर इनेला जिलाध्यक्ष पदम जैन, विधायक रामचंद्र कम्बोज, पूर्वमंत्री भागीराम, जसवीर जस्सा, कश्मीर सिंह करीवाला, सुभाष नैन, वरियाम चंद, अजब ओला, विनोद दडंबी, महेन्द्र बाना, रामकुमार नैन, विकास खिचड़, जरनेल चंदी, धर्मवीर नैन, भगवान कोटली,  मदन शर्मा, सन्नी खिचड़, विनोद सहारण, रमण मैहता, मनोज साहरण, नरेश ढिल्लोंं, सतपाल छतरियां सहित अनेक पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे।

Tuesday, February 20, 2018

इनसो के संघर्ष के आगे सरकार ने घुटने टेके



हिसार : इनसो के पांच दिन के लंबे संघर्ष के बाद आखिर खट्टर सरकार बैक फुट पर आ गई और छात्र नेताओं के अनशन के आगे घुटने टेकते हुए छात्र संघ चुनाव करवाने की सभी आठों मांगे मान ली। इस आशय की जानकारी लेकर गुजवि के कुलपति प्रो. टंकेश् वर कुमार लेकर सांय सवा पांच बजे इनसो के अनशनकारियों के पास पहंचे। लिखित आश्वासन के बाद अनशन पर बैठे  दिग्विजय सिंह चौटाला सहित सात छात्र नेताओं ने अपना अनशन समाप्त कर दिया। प्रदेश के मुख्य सचिव की ओर से भेजे गए पत्र को से गुजवि के कुलपति डॉ टंकेश्वर कुमार छात्र संघ चुनाव की सभी शर्ते लिखित रूप में स्वीकारने की प्रति अनशनकारियों को सौंपी। हरियाणा सरकार ने इनसो की मांगों को मानते हुए कहा कि सितम्बर 2018 में छात्र संघ चुनाव लिंगदोह कमेटी और पंजाब व दिल्ली के पैटर्न के अनुसार करवाये जाएंगे। सरकार की और से प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को नोटिफिकेशन जारी कर अपने प्रोस्पेक्टस में छापने के आदेश दे दिए है।
ने इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला  को कुलपति प्रो. टंकेश् वर कुमार व वरिष्ठ कार्यकर्ता दलीप कुमार धनाना ने सहित अनशनकारी छात्र नेताओं जसविंदर खैरा, मंजू जाखड़, योगेश गौतम, असीम ढिल्लों व जयदेव नौलथा, अंकित देसवाल व सीना पहलवान को जूस पिलाकर उनका अनशन तुड़वाया। इस मौके पर इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा, सांसद दुष्यंत चौटाला, जिला प्रधान राजेंद्र लितानी, विधायक रणबीर गंगवा, वेद नारंग, अनूप धानक, शीला भ्याण, युवा प्रदेशाध्यक्ष सुमित राणा, दिनेश डागर भी मौजूद थे। 


दिग्विजय चौटाला ने इस संघर्ष को प्रदेश के हर छात्र की जीत बताया है। सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इनसो अपने वायदे के मुताबिक एक वर्ष तक छात्र संघ का चुनाव नहीं लड़ेगी। अपना अनशन समाप्त करने के बाद दिग्विजय सिंह चौटालों गुजवि से बाहर निकले तो, गुजवि गेट पर वे वाहन से उतरे, धरा से चूमा और हाथ हिला कर बोला, बाय...बाय गुजवि, एक वर्ष बाद लौटूंगा। दरअसल दिग्विजय चौटाला ने दो दिन पूर्व घोषणा की थी छात्र संघ के चुनाव घोषित होने पर एक वर्ष तक किसी छात्रों की चुनावी प्रक्रिया में भाग लेने के लिए प्रदेश के 12 विश्वविद्यालयों में से एक भी विश्वविद्यालय में कदम नहीं रखेंगे। दिग्विजय चौटाला ने कहा कि जननायक चौ. देवीलाल ने 1977 में छात्र संघ के चुनाव शुरू करवाए थे और 1996 में बंद होने के बाद फिर से इन चुनावों को देवीलाल के सिपाहियों ने संघर्ष कर बहाल करवाया है। उन्होंने इस संघर्ष में साथ देने वाले हर छात्र का आभार व्यक्त किया। अनशन समाप्त करने के बाद दिग्विजय चौटाला को सांसद दुष्यंत चौटाला ने केक  खिलाकर दिग्विजय चौटाला को जन्म दिन की बधाई दी। दिग्यिज चौटाला पिछले 16 फरवरी सुबह दस बजे से अनशन पर थे और उन्होंने इस दौरान अन्न ग्रहण नहीं किया था। इसके बाद  दुष्यंत चौटाला, दिग्विजय चौटाला सहित अन्य पदाधिकारी टॉउन पार्क पहुंचे और जननायक ताऊ देवीलाल की प्रतिमा पर माल्यापर्ण कर इस संषर्घ की जीत को ताऊ देवीलाल को समर्पित किया। 


अनशन पर बैठे दिग्विजय को जन्मदिन की शुभकामनाएं देने पहुंची मां नैना चौटाला


हिसार, 20 फरवरी : ...दिग्गू बेटा ठीक है तंू, कैसी है तेरी तबियत। कमजोर तो हो गया है पर मत घबराना मत बेटा, गुजवि के इस मैदान में। तेरा संघर्ष जरूर एक दिन रंग लाएगा। बेटा जन्म दिन पर मैं खाने के लिए कुछ नहीं लाई क्यों कि तूं यहां परभूख हड़ताल पर बैठा, ऐसा कह नैना ने अपने पर्स में हाथ डाला और पैसे निकाल के दिग्विजय चौटाला के हाथ पर रख दिए और बोली, तेरे संघर्ष के इन साथियों को जन्म दिन की मिठाई खिला देना। इन शब्दों के बाद नैना चौटाला कुछ आगे नहीं बोल पाई और दिग्विजय को गले लगा लिया। यह दृश्य था आज गुजवि में आमरण अनशन स्थल पर प्रात: सवा नौ बजे था जब डबवाली की विधायक अपने लाडले को उसके जन्म दिन की शुभ कामनाएं देने पहुंची थी। 
विधायक नैना चौटाला अनशन पर बैठी सभी छात्र नेताओं से मिली और उनका कुशलक्षेम पूछा और संषर्घ वियजी का आशीर्वाद दिया। उन्होंने छात्रों की मांगों का समर्थन करते हुए कहा कि हरियाणा सरकार को तुंरत प्रदेश के छात्रों की मांग मानते हुए अपना छात्र संघ का चुनाव करवाने का अपना वायदा पूरा करना चाहिए। 
आज दिग्विजय सिंह चौटाला सहित पांच अन्य छात्र नेताओं का अनशन पर पांचवा दिन में प्रवेश कर गया। आज अनशन का इनसो की मांगों को विभिन्न छात्र और शिक्षक संगठनों ने अपना समर्थन दिया। 
सिरसा के चौधरी देवीलाल विश्वविद्यालय के गैर शैक्षणिक कर्मचारी संगठन ने प्रदेशभर में छात्र संघ के चुनावों की मांग का समर्थन किया। संगठन की ओर से प्रधान बजरंगलाल, उपप्रधान देवीलाल, महासचिव कुलदीप, सचिव सुरेंद्र दलाल, कोषाध्यक्ष रविंद्र, पूर्व प्रधान महेंद्र बेनीवाल आदि ने कहा कि इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला छात्रहितों के लिए संघर्ष कर रहे हैं और उनका संगठन पूरी तरह से उनका समर्थन करता है। संगठन पदाधिकारियों ने कहा कि भविष्य में छात्रहित के लिए इनसो जो भी कदम उठाएगी, वे पूरी तरह उनका समर्थनकरेंगे। इनके अलावा जयहिंद मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुरेश शर्मा, हरियाणा मेडिकल रिप्रंजेटेटिव एसोसिएशन, गुजवि गैर शिक्षक कर्मचारी कल्याण संघ के पूर्व प्रधान राजबीर सिंह मलिक ने अपना समर्थन किया। उधर आज जाट लॉ कालेज के विद्यार्थियों ने मांगो के समर्थन में कालेज पर ताला जड़ दिया। दिग्विजय ने अपने जन्म दिवस पर गुजवि परिसर में पौधा रोपण कर अपना जन्म दिन मनाया। उन्होंने कहा कि इनसो की परम्परा रही है कि वह अपने सामाजिक उत्तरदायित्व को बखूबी समझती है और हर कदम पर अपने कर्तव्य को निभाने में अग्रणी रहती है। वे अपने जन्म दिवस पर आशीर्वाद लेने गुजवि कुलपति के पास भी गए और उन्हें फलों की टोकरी भेंट कर आशीर्वाद लिया। 

जनविरोधी फैसलों के कारण बीजेपी ने खोया जनाधार - अभय सिंह चौटाला 



सिरसा : हरियाणा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला ने कहा कि भाजपा ने बीती 15 फरवरी को जींद में अपना दमखम आजमाने की कोशिश की थी मगर गलत नीतियों और जनविरोधी फैसलों के चलते प्रदेशवासियों ने भाजपा को उसकी असलियत आईने में दिखा दी। इस रैली से स्पष्ट हो गया कि भाजपा ने प्रदेश में अपना जनाधार खो दिया है और आने वाला वक्त इनेलो का है।

वे मंगलवार को गांव बनसुधार, धोतड़, सुल्तानपुरिया, नानुआना, महम्म्दपुरिया, बालासर, कुस्सर, घोडांवाली, गिंदड़ा सहित करीब 15 गांवों में जनसंपर्क अभियान के दौरान ग्रामीणों को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि यूं तो पंजाब हरियाणा के बंटवारे के साथ ही एसवाईएल के पानी का भी बंटवारा साथ ही होना चाहिए था मगर उस समय कांग्रेस ने इस गंभीर मुद्दे पर राजनीति की और उसका ही परिणाम है कि आज लंबे समय तक भी हरियाणा को उसके हक का पानी नहीं मिल पाया है जिसके कारण प्रदेश के किसानों को उसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने इस मामले में हरियाणा के हक में फैसला देते हुए केंद्र सरकार को पंजाब में नहर बनाने के आदेश दिए थे मगर अब तक केंद्र सरकार इस दिशा में पूरी तरह उदासीन बनी हुई है। उन्होंने कहा कि एसवाईएल हरियाणा के किसानों के लिए जीवनरेखा है और अपने हक को लेने के लिए इनेलो अब से पूर्व तीन मर्तबा सांकेतिक आंदोलन कर चुकी है, मगर इस बार 7 मार्च को नई दिल्ली के रामलीला मैदान में किसान रैली आयोजित कर आरपार की लड़ाई लडऩे का निर्णय लिया है। इस किसान रैली में न केवल एसवाईएल का पानी हरियाणा में लाने बल्कि किसानों की आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिए स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने के लिए भी केंद्र सरकार पर दबाव डाला जाएगा। उन्होंने बताया कि इसी किसान आंदोलन में सरकार को घेरने के लिए नई रणनीति का भी ऐलान किया जाएगा। उन्होंने लोगों से अधिकाधिक संख्या में इस किसान रैली में भाग लेने का आह्वान किया। अपने जनसंपर्क अभियान के दौरान नेता प्रतिपक्ष ने कांग्रेस पर भी व्यंग्य कसे। 


उन्होंने कहा कि आज कांग्रेस गुटबंदी में बंट चुकी है और पार्टी के सभी धड़े जिसमें भूपेंद्र हुड्डा, डॉ. अशोक तंवर, किरण चौधरी, कैप्टन अजय यादव, रणदीप सुरजेवाला स्वयं को असली कांगे्रस बताकर प्रदेशवासियों को गुमराह करने पर तुले हैं, ऐसे में कांग्रेस की पतली हालत का अंदाजा लगाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि आने वाला समय इनेलो का है और प्रदेश में इनेलो के सत्तासीन होते ही गांव, देहात, कस्बों और शहरों में विकास के कार्यों को तेजी से चलाकर हरियाणा को सही मायने में देश का नंबर वन प्रदेश बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी परिवारों से शिक्षित युवाओं को रोजगार, किसानों के कर्ज माफ, घरेलू बिजली के बिलों को आधा माफ करने व गरीब की बेटी की शादी में 5 लाख रुपए तक की आर्थिक सहायता सहित अनेक कल्याणकारी योजनाएं आरंभ की जाएंगी। इस अवसर पर उनके साथ इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन, पूर्व मंत्री भागीराम, रानियां के विधायक रामचंद्र कंबोज, वरिष्ठ नेता वरियाम चंद, जसवीर सिंह जस्सा, सुभाष नैन, युवा इनेलो जिलाध्यक्ष अजब ओला, विनोद दड़बी, रामकुमार नैन, महेंद्र बाना, विकास खीचड़, जगमेल सिंह, धर्मवीर नैन, भगवान कोटली, जरनैल चंदी, मदन शर्मा, सन्नी खीचड़, सरपंच विनोद सहारण, रमन, मनोज सहारण, कुलदीप गोदारा, कैलाश ज्याणी, सतपाल छतरियां, नरेश ढिल्लों, अमृत मान, राजेंद्र महला, विजेंद्र न्यौल, संजय न्यौल सहित अनेक पार्टी पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे। 
छात्र संघ चुनाव को लेकर गुमराह करना बन्द करे सरकार - दुष्यंत चौटाला 


हिसार : इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने सरकार को चेताते हुए कहा कि सरकार अपने मंत्रियों और अन्य नेताओं के द्वारा छात्रों को गुमराह करने बन्द करे। वे सोमवार को  इनसो के धरने को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने मुख्यमंत्री के ओ एस डी द्वारा प्रेस को लिखे गए पत्र को झुठ का पुलिंदा बताते हुए कहा कि इस प्रकार के आश्वासन तो सरकार पिछले लंबे समय से दे रही है।  यंहा तक कि भाजपा के घोषणा पत्र में छात्रसंघ चुनाव करवाये जाने कीबात थी। तो अब भी कोरे आश्वासन दिए जा रहे है। सांसद ने कहा कि अगर सरकार की मंशा ठीक है तो फिर सरकारी आधिकारिक पत्र जारी करने से पीछे क्यों हट रहीहै। उन्होंने कहा कि अबछात्र उनके किसी बहकावे में आने वाले नही है।